1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ब्लॉग

‘बेशर्म’ के दौर में ‘आवारा’

जब मुख्यधारा के हिन्दी सिनेमा में भरपूर विकार और नाना हाहाकार आ घुसे हैं, ऐसे समय में उस दौर की याद आती है जब सिनेमा मासूम स्वप्नों और स्वाभाविक आकांक्षाओं का पारदर्शी पर्दा था. ऐसे ही दौर के एक फिल्मकार थे राज कपूर.

हिन्दी फिल्मों के पहले शोमैन कहे जाने वाले राज कपूर के निधन को 25 साल हुए. अपनी मौत के डेढ़ दशक बाद भी राज कपूर के सिनेमा की प्रासंगिकता बनी हुई है. उधार की ही सही लेकिन चैप्लिनीय छवि के सहारे राज कपूर ने ब्लैक एंड व्हाइट पर्दे पर स्वप्न, आकांक्षा, संघर्ष और रोमान के अंधेरे उजाले को पेश किया था. मजे की बात ये है कि नाइंसाफी और शोषण से प्रतिरोध के उनके सिने विषय ऊबड़खाबड़ और पथरीली जमीन से नहीं निकलते थे, वे स्वप्निल लैंडस्केप के कलाकार थे. वहां खुरदुरापन नहीं था. यहां तक कि उनका आवारा और उनका 420 भी सामान्य अर्थों में मवाली, गुंडा और बदमाश नहीं दिखता था. राज कपूर की शायद यही कामना थी. वो उन किरदारों में जान फूंकने से पहले उनका एक अघोषित रूपांतरण कर देना चाहते थे. उनमें नायकत्व से ज्यादा नायिका की आत्मा थी. दुनिया से बेगाने, दुनिया के सताए और धकियाए हुए उनके ये नायक असल में अपनी स्त्रैण अनुभूति से ही दिल लूटते थे.

ये एक बड़ी बात थी कि एक पुरुष के भीतर एक स्त्री की खोज और उसका संरक्षण राज कपूर की फिल्मों का एक अननोटिस्ड पर बुनियादी लक्षण रहा है. हो सकता है कि राज कपूर के इस काम में उन्हें बहुत बड़ी मदद अपने कैमरामैन, संगीतकारों और गीतकारों और गायकों से भी मिलती रही हो. आखिर वे सब भी अपने समय के माहिर लोग थे, उस्ताद थे. उन्होंने राज कपूर के नायक के खुरदुरेपन को और घिसा. उनकी नायिका को और रोमानी और दिलकश बनाया. कुल मिलाकर ये टीम एक जादू की रचना में सफल रही. स्टूडियो के भीतर एक नकली आसमान, एक नकली चांद, एक नकली पेड़ और एक नकली रात की नकली हवा है, बेशक है, सब जानते थे लेकिन सब जैसे उन्हीं कृत्रिमताओं में डूब जाते थे जैसे वे वास्तविक रूप हों. चांदनी मधुर थी, आसमान झूमता था और मिलन की उस मीठी तड़प वाले रोमानी अनुभव से न सिर्फ किरदार बल्कि उन्हें देखने वाली ऑडियंस भी थरथराती थी. ये कैसे होता था, ये होता था उस भावप्रणता और उस सिनेमाटोग्राफी और उस गीत संगीत से जो अब सुनें तो लगता है कि क्या हमारा सिनेमा वाकई ऐसी विलक्षण करामात और ऐंद्रिक क्रांति का सिनेमा रहा होगा.

राज कपूर ने नेहरुवियन समाजवाद के स्वप्न को पर्दे पर साकार करने की कोशिश की, ये हम जानते हैं, वे भारतीय इथोज की सृजना करने वाले आकांक्षी रचनाकारों में से थे. वहां समाजवाद भी था, लेकिन पूंजीवाद का तिरस्कार नहीं था. उस सिनेमा में समाजवादी टकराहटें किसी बड़े जलजले की ओर बढ़ने से पहले पूंजीवादी नैतिकता में विलीन हो जाती हैं. वर्ग शत्रु फिल्म के आखिर में एक ओर ही जाते दिखाई देते थे. राज कपूर की ये अपनी एक पॉलिटिक्स थी. वे सिनेमा के जरिए एक बदलाव के अभिलाषी बेशक थे लेकिन ये बदलाव सामाजिक व्यवस्थाओं में बहुत निर्णायक खिलवाड़ या रद्दोबदल की ओर जाती हुई अभिलाषा नहीं थी. हां भाईचारा और प्रेम इसकी बुनियादी मांग हमेशा रहती थी.

अगला पन्ना..

DW.COM