1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

बेशकीमती पेंटिंगों का मालिक कौन

जर्मन सरकार म्यूनिख में बरामद पेंटिंगों की जानकारी वेबसाइट पर डाल रही है लेकिन उस पर यहूदी संगठनों का दवाब भी है कि वो काम जल्द से जल्द पूरा करें.

यहूदी संगठनों और कला प्रेमियों के भारी दबाव के बाद आखिरकार जर्मन सरकार ने नाजी दौर में लूटी गई पेंटिंगों की जानकारी इंटरनेट पर सार्वजनिक कर दी. कुछ दिन पहले म्यूनिख शहर में करीब 1,400 बेशकीमती पेंटिंगें मिली थीं. जर्मन सरकार ने कहा है कि वह एक टास्क फोर्स का गठन कर इन पेंटिंगों की पहचान का काम करेगी. सरकार ने बयान जारी कर कहा है कि हो सकता है कि करीब 590 पेंटिंग नाजियों ने चुरायी होंगी.

सरकार ने 25 कलाकृतियों का ब्योरा वेबसाइट पर जारी किया है. पिछले हफ्ते अधिकारियों ने म्यूनिख में 80 साल के एक आदमी के पुराने मकान से ये पेंटिंगें बरामद की. कोर्नेलियुस गुर्लिट के घर से बरामद इस गुप्त कोष में पिकासो और माटीस जैसे महान कलाकारों की पेंटिंगें शामिल हैं. जिन कलाकृतियों का ब्योरा ऑनलाइन डाला गया है उनमें ओट्टो डिक्स की, 'द वुमन इन द थिएटर बॉक्स', ओट्टो ग्राइबल की पेंटिंग 'द चाइल्ड एट द टेबल' और माक्स लीबरमन की पेंटिंग 'राइडर ऑन द बीच' शामिल हैं.

बरामद हुई कलाकृतियों या तो चुराई गईं थीं या फिर यहूदियों के कला संग्राहकों से सस्ते दामों में खरीदीं गईं. माना जा रहा है कि पेटिंगों पर दावा करने वाले कई लोग सामने आएंगे. यहूदी संगठन जानकारी जारी करने में हो रही देरी पर नाराजगी जता रहे हैं.

सोमवार को जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल के प्रवक्ता ने कहा कि सरकार यहूदी संगठनों की मांगों को समझती है कि कलाकृतियों को सार्वजनिक किया जाए. मैर्केल के प्रवक्ता श्टेफान जाइबेर्ट ने कहा, "हम समझ सकते हैं, खासकर यहूदी संगठन ये सवाल उठा रहे हैं. वे उन बुढ़े लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं जिनके साथ बुरा बर्ताव किया गया था."

जर्मन सरकार और बावेरिया की राज्य सरकार टास्क फोर्स में 6 विशेषज्ञों को शामिल करेगी. टास्क फोर्स बर्लिन यूनिवर्सिटी के एक शोध समूह के साथ मिलकर काम करेगी. बरामद कलाकृतियां ज्यादातर आधुनिक हैं या फिर ऐब्स्ट्रैक्ट आर्ट हैं. बहुत सी कलाकृतियां नाजियों को समृद्ध बनाने के लिए बेच दी गईं थीं. सरकार के मुताबिक इस श्रेणी में करीब 380 पेंटिंग आती है. सरकार के मुताबिक टास्क फोर्स ऑग्सबर्ग में जारी न्यायिक जांच के साथ काम करेगी. अभियोग पक्ष का कहना है कि सिर्फ इस बात के सबूत हैं कि एक पेंटिंग जो कि माटीस की पेंटिंग है वो 1942 में नाजियों ने फ्रांस के एक बैंक से चुरायी. इसके अलावा श्टुटगार्ट पुलिस के प्रवक्ता होर्स्ट हाउग ने बताया है कि 22 पेंटिंगों को एक घर से बरामद करने के बाद उन्हें सुरक्षित जगह रख दिया गया है. उनके मुताबिक ये पेंटिंग भी म्यूनिख में बरामद पेंटिंगों से मिलती हैं.

इस बीच जर्मनी के विदेश मंत्री गीडो वेस्टरवेले ने चेतावनी दी है कि अगर सक्रिय दृष्टिकोण के साथ खजाने की सार्वजनिक तौर पर पहचान नहीं होती है तो दुनिया में जर्मनी की साख को झटका लग सकता है. उन्होंने कहा है, ''हमें इस संवेदनशील मुद्दे को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.''

एए/ओएसजे (डीपीए)

DW.COM