1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बेबी डॉक स्वदेश वापसी को स्वतंत्र: हैती पीएम

हैती के प्रधानमंत्री जौं माक्स बेलरीव ने कहा है कि पूर्व तानाशाह जौं क्लोद दुवालिए उर्फ बेबी डॉक स्वदेश वापसी के लिए स्वतंत्र हैं. बेबी डॉक का कहना है कि वह भूकंप से पीड़ित देश की मदद के लिए हैती लौटे हैं.

default

बेबी डॉक की वापसी

प्रधानमंत्री ने कहा, "वह हैती के नागरिक हैं और स्वदेश वापसी के लिए स्वतंत्र हैं." रविवार को बेबी डॉक हैती पहुंचे. यह अभी साफ नहीं है कि हैती पहुंचने का उनका क्या मकसद है. लेकिन वह ऐसे समय में हैती पहुंचे हैं जब विवादास्पद राष्ट्रपति चुनाव के बाद देश में राजनीतिक संकट की स्थिति है. साथ ही, साल भर पहले विनाशकारी भूकंप को झेलने वाला हैती अब हैजे की चपेट में है जिसकी वजह से अब तक 3,750 से ज्यादा लोगों की जानें जा चुकी हैं. जनवरी 2010 में भूकंप में हैती के लगभग दो लाख बीस हजार लोग मारे गए.

कुछ तथ्य दुवालिए के बारे में:

  • 59 वर्षीय बेबी डॉक ने 1971 में अपने पिता और तानाशाह फ्रांको ''पापा डॉक'' दुवालिए की मौत के बाद 19 साल की उम्र में सत्ता संभाली. वह सबसे कम उम्र में सत्ता संभालने वाले लोगों में से एक हैं.
  • बेबी डॉक ने 15 साल तक हैती पर निरंकुश राज किया. उन्होंने खुद को आजीवन देश का राष्ट्रपति घोषित किया लेकिन 1986 में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शनों के बाद उन्हें सत्ता छोड़ उन्होंने फ्रांस में जा कर शरण लेनी पड़ी. रविवार को हैती लौट कर उन्होंने सबको हैरान कर दिया है.
  • पापा डॉक और बेबी डॉक ने कुल मिला कर हैती पर 28 वर्षों तक राज किया. उनकी खुफिया पुलिस ने बहुत से लोगों का सफाया किया. अकसर काले चश्मे और पिस्तौल रखने वाले इस खुफिया पुलिस के सदस्य विरोधियों को देखते ही खत्म कर देते थे. पश्चिमी देशों का आरोप रहा है कि तानाशाह बाप-बेटे ने बेहद एशो आराम से जिंदगी गुजारी लेकिन हैती के लोगों का कोई भला नहीं किया.
  • बेबी डॉक के राज में हैती के एक लाख से भी ज्यादा लोगों को देश छोड़ कर भागना पड़ा. इनमें बहुत से लोग छोटी मोटी नौकाओं पर सवार हो कर शरण के लिए अमेरिका पहुंचे.
  • लाखों लोगों के सड़कों पर उतर आने के बाद बेबी डॉक को अमेरिकी दबाव में सत्ता से हटना पड़ा. उन्होंने 1986 में देश की सत्ता ने छह सदस्यों वाले सैन्य और असैन्य आयोग को सौंपी.
  • 2007 में हैती रेडियो को दिए इंटरव्यू में दुवालिए ने अपने राज में हुई गलतियों के लिए लोगों से माफी मांगी. रविवार को वापसी पर दुवालिए ने कहा कि वह हैती के लोगों की मदद के लिए स्वदेश लौटे हैं.

    रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

    संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links