1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

बेनजीर हत्याकांड में पुलिसवालों पर वारंट

पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या के मामले में अदालत ने दो पुलिस अधिकारियों के खिलाफ वारंट जारी किया है. दोनों अधिकारियों पर आरोप है कि बेनजीर को सुरक्षा देने में कोताही बरती गई.

default

अभियोजन पक्ष के वकील जुल्फिकार अली ने बताया कि रावलपिंडी पुलिस प्रमुख सऊद अजीज और पुलिस अधीक्षक खुर्रम शहजाद के नाम वारंट जारी हुए हैं. दोनों अधिकारियों को किसी भी वक्त गिरफ्तार किया जा सकता है. अजीज और शहजाद पर आरोप है कि उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो को पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध नहीं कराई जबकि उन्हीं पर यह जिम्मेदारी थी कि बेनजीर को सुरक्षा दी जाए.

Jahresrückblick 2007 Oktober Pakistan Bhutto kehrt zurück

भुट्टो की हत्या के बाद घटनास्थल को पानी से पूरी तरह धोकर साफ कर दिया गया, जिससे कई अहम सबूत मिटने के भी आरोप लगे. अब दोनों अधिकारियों को इस बात की भी सफाई देनी है कि घटनास्थल तुरंत साफ करने का फैसला क्यों लिया गया.

पाकिस्तान से कई साल तक बाहर रहने के बाद बेनजीर भुट्टो 2007 में पाकिस्तान लौटीं और उनकी जान को खतरा बताया जा रहा था. बेनजीर के पाकिस्तान पहुंचने के दिन ही अक्तूबर, 2007 में उन पर कातिलाना हमला हुआ जिसमें 150 से ज्यादा लोगों की मौत हुई. हालांकि बेनजीर उस हमले में बाल बाल बच गई थीं. इसके चलते ही उनकी जान को खतरे की आशंका जताई जा रही थी.

इसके बाद दिसंबर, 2007 में रावलपिंडी में रैली के दौरान आत्मघाती हमले में बेनजीर भुट्टो की मौत हो गई. संयुक्त राष्ट्र कमीशन ने इस साल अप्रैल महीने में बेनजीर हत्याकांड पर अपनी रिपोर्ट पेश करते हुए कहा कि बेनजीर की हत्या को टाला जा सकता था.

यूएन कमीशन के मुताबिक बेनजीर को पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था मुहैया नहीं कराई गई और इसके लिए सरकारी तंत्र हर स्तर पर जिम्मेदार है. संयुक्त राष्ट्र कमीशन का कहना है कि कई बार उनके काम में रूकावट भी डाली गई.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए जमाल

DW.COM