1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

बेटे की मुराद लिए फतेहपुर सीकरी पहुंचे सारकोजी-कार्ला

नंगे पांव और ढंके सिर के साथ फ्रांसीसी राष्ट्रपति निकोला सारकोजी और उनकी पत्नी कार्ला ब्रूनी सारकोजी सूफी संत शेख सलीम चिश्ती की मजार पर पहुंचे. कार्ला ने बेटे की मन्नत मांगी.

default

कार्ला के साथ सारकोजी

फ्रांसीसी राष्ट्रपति सारकोजी ने रिवायतों का खास ध्यान रखा और मजार पर गुलाब के फूलों वाली चादर चढ़ाई. इस दौरान उन्होंने और उनकी पत्नी कार्ला ब्रूनी ने अपना सिर ढंके रखा. सारकोजी ने अपनी कामयाबी के लिए दुआ मांगी. फतेहपुर सीकरी कभी मुगल सम्राट अकबर की राजधानी हुआ करती थी. अब यह भारत में संरक्षित जगह है.

मजार के सज्जादानशीं रईस मियां चिश्ती ने बताया, "मैंने उन्हें बताया कि इस मजार पर बेरोजगारों, कुंवारों और निसंतान लोगों की दुआएं पूरी होती हैं. सारकोजी ने मुझसे कहा कि मैं उनके लिए दुआ करूं कि उन्हें कामयाबी मिले, जबकि कार्ला ने मुझसे एक बेटे के लिए दुआ करने को कहा." सारकोजी और कार्ला ब्रूनी ने दो साल पहले 2008 में शादी की है लेकिन दोनों को कोई औलाद नहीं है. हालांकि पहले की शादियों से सारकोजी के तीन बच्चे हैं, जबकि कार्ला का एक बच्चा है.

Flash-Galerie Sarkozy Taj Mahal

इतिहास के पन्नों में दर्ज है कि मुगल सम्राट अकबर को जब बेटा नहीं था तो वे नंगे पैर शेख सलीम चिश्ती के पास आए. चिश्ती ने अकबर के लिए दुआ की और अकबर के घर बेटे का जन्म हुआ. शेख सलीम के सम्मान में लड़के का नाम सलीम रखा गया, जो बाद में शहंशाह जहांगीर के नाम से मशहूर हुआ.

अकबर के दिल में शेख सलीम चिश्ती की भरपूर इज्जत थी और उन्होंने उनके स्थान के आस पास पूरा शहर फतेहपुर सीकरी बसा दिया. यहां तक कि अकबर ने इसी जगह को अपनी राजधानी भी बना लिया.

सारकोजी और कार्ला ने हाथ पर मजार का धागा भी बांधा, जिसे मन्नतों को पूरा करने वाला माना जाता है. रईस मियां चिश्ती ने बताया, "उन्होंने सभी परंपराओं को पूरा किया और वे बहुत खुश लग रहे थे." दो साल पहले भी सारकोजी भारत आए थे लेकिन उस वक्त उन्होंने कार्ला ब्रूनी से शादी नहीं की थी. भारतीय परंपराओं को देखते हुए तब सारकोजी अपने साथ कार्ला को नहीं लाए थे.

उस वर्ष भारतीय गणतंत्र दिवस के विशेष अतिथि सारकोजी ने ताजमहल के दीदार किए थे और इसकी खूबसूरती को देखने के बाद तभी कहा था कि वे कार्ला ब्रूनी को लेकर यहां आना चाहते हैं. उन्होंने अपना वादा पूरा किया. सारकोजी को सोमवार को भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात करनी है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः एस गौड़

DW.COM