1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बेंगलोर के नेशनल पार्क में बाघ की मौत

बंगलोर शहर की सीमा पर बने बनरघट्टा नेशनल पार्क में एक बाघ के बच्चे की मौत हो गई है. पिछले एक सप्ताह में ये पांचवें बाघ की मौत है. शुरुआती जांच में डायरिया को मौत की वजह बताया गया है.

default

3 महीने का ये बाघ का बच्चा अपने तीन भाई बहनों और मां के साथ था. एक दिन पहले अचानक उसे डायरिया ने अपनी चपेट में ले लिया और इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई. ये जानकारी नेशनल पार्क के कार्यकारी निदेशक टैगोर मिलो ने दी.

बाघ के विसरा की जांच के लिए सैम्पल इंस्टीट्यूट ऑफ एनीमल हेल्थ एंड वेटनरी बायोलॉजिकल्स में भेजे गए. सैम्पल की जांच के बाद आई रिपोर्ट में पता चला है कि बाघ के इस बच्चे के पेट में ई कोलाई और सैलमोनेला बैक्टीरिया का संक्रमण हुआ था. बाघ के खून के सैम्पल भी जांच के लिए भेजे गए हैं. पार्क के निदेशक के मुताबिक डॉक्टरों की एक टीम पार्क में गई है. हालांकि फिलहाल और किसी बाघ में बीमारी के लक्षण नहीं दिखे हैं.

Sibirischer Tiger

लगातार घट रहे हैं बाघ

इस पार्क में पिछले हफ्ते ही तीन बाघ बूढ़े होकर मर गए जबकि एक बाघ का बच्चा डायरिया का शिकार होकर मारा गया. लगातार हो रही बाघ की मौतों ने बाघ संरक्षण में जुटे लोगों की चिंता बढ़ा दी है. जंगल में आमतौर पर बाघों की आयु 15-16 साल होती है जबकि चिड़ियाघर में पाले जाने वाले ज्यादातर बाघ 16-20 साल तक जीवित रहते हैं. बनरघट्टा नेशनल पार्क में सफेद बाघ और शेरों के अलावा तेंदुए भी रहते हैं. पार्क के भीतर एक चिड़ियाघर और अलग से तितलियों का पार्क भी है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links