बीवी के डर से सुधरे ओबामा | मनोरंजन | DW | 24.09.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

बीवी के डर से सुधरे ओबामा

अमेरिका के राष्ट्रपति को दुनिया का सबसे ताकतवर शख्स माना जाता है, लेकिन ये ताकतवर इंसान भी अपनी बीवी से डरता है. बराक ओबामा खुलकर मान भी चुके हैं कि बीवी के डर की वजह से उन्होंने सिगरेट को आखिरकार बाय बाय कह ही दिया.

बात यूं ही निकल आई. न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की तैयारियों के बीच ओबामा मीडिया से बात करने वाले थे. कैमरे और माइक लग चुके थे. तभी ओबामा से करीब खड़े एक व्यक्ति ने पूछा कि क्या उन्होंने वाकई में सिगरेट छोड़ दी है. ओबामा ने कहा हां, बीवी की वजह से छोड़नी पड़ी.

ये खुसफुसाहट एक माइक ने रिकॉर्ड कर ली. बाद में जब पत्रकारों ने ओबामा से खुलकर इस बारे में पूछा तो अमेरिकी राष्ट्रपति शर्मीले ढंग से मुस्कुराये और अपने चिर परिचित मजाकिया अंदाज में बोले, "मैंने शायद बीते छह साल में कोई सिगरेट नहीं पी है. इसकी वजह पत्नी से लगने वाला डर है."

52 साल के ओबामा अपने भाषणों के साथ अच्छे फिगर और स्वस्थ जीवनशैली के लिए जाने जाते हैं. लेकिन खुद ओबामा सिगरेट को अपनी कमजोरी बताते रहे हैं. उनके मुताबिक किशोरावस्था में उन्होंने सिगरेट पीनी शुरू की और फिर लत ही लग गई. 2008 में जब ओबामा राष्ट्रपति चुनाव की तैयारी कर रहे थे, उस वक्त उनकी सिगरेट छोड़ने की कोशिश अमेरिकी मीडिया में सुर्खियों में रही. राष्ट्रपति के तौर पर पहला साल गुजारते वक्त उन्होंने इस आदत पर 95 फीसदी काबू किया, लेकिन ये भी कहा कि, "कभी कभार मैं फिसल ही जाता हूं."

Barack Obama beim Korrespondenten-Dinner im Weißen Haus Michelle Pony

पत्नी की हेयर स्टाइल की नकल करते ओबामा

दिसंबर 2010 में तो बकायदा व्हाइट हाउस के प्रवक्ता रॉबर्ट गिब्स ने भी कह दिया कि ओबामा ने बीते नौ महीने से सिगरेट नहीं पी है. भारी तनाव के बावजूद राष्ट्रपति पूरी शिद्दत से इसे छोड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

ओबामा की पत्नी और अमेरिका की पहली महिला मिशेल ओबामा सार्वजनिक स्वास्थ्य का अभियान चलाती हैं. धू्म्रपान के लिए वो सार्वजनिक मंच पर अपने पति की आलोचना भी कर चुकी हैं. हालांकि फरवरी 2011 में मिशेल ने कहा कि राष्ट्रपति ने साल भर से सिगरेट नहीं पी है. साथ ही उन्होंने ये भी कहा, "जब कोई अच्छा काम करने कोशिश करे तो उसे परेशान नहीं करना चाहिए."

ओएसजे/एनआर (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री