1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

बीपी विवाद पर ओबामा कैमरन की बातचीत

ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ब्रिटिश कंपनी बीपी के तेल कूंए से रिसाव के बाद भड़के विवाद को सुलझाने की कोशिश की है. कैमरन ने वाशिंगटन में ओबामा से भेंट की.

default

प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली बार अमेरिका गए कैमरन के साथ बातचीत में ओबामा ने दोनों देशों के संबंधों को ख़ास कहा तो कैमरन ने कहा कि वे अमेरिकी नागरिकों का आक्रोश समझ सकते हैं. कैमरन ने कहा कि बीपी को तेल कुएं के छेद को बंद करना चाहिए, रिसाव के कारण हुई गंदगी की सफ़ाई करनी चाहिए और उससे पीड़ित हुए लोगों को हर्ज़ाना देना चाहिए.

लेकिन ब्रिटिश प्रधानमंत्री की नज़रों के सामने ब्रिटेन के पेंशनर और बहुत से निवेशक भी थे जिंहोंने बीपी में निवेश कर रखा है. उन्होंने दोनों ही देशों के लिए बीपी कंपनी के मूल्य पर ज़ोर दिया और कहा कि बीपी को एक मजबूत और स्थिर कंपनी बने रहना चाहिए, इसलिए भी कि वह हर्ज़ाना चुका सके. मेक्सिको की खाड़ी में बीपी के तेल कुएं में दुर्घटना के बाद से उसके शेयर मूल्यों में भारी गिरावट हुई है.

Golf von Mexiko

तेल रिसाव से बीपी को भारी नुकसान

राष्ट्रपति ओबामा के साथ बातचीत के बाद ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने इन आरोपों से इंकार किया कि लॉकरबी विमान हमले के लिए क़ैद भुगत रहे हमलावर अब्देल बासेत अली मोहम्मद अल मेगराही की रिहाई से बीपी का कोई लेना देना है. डेविड कैमरन ने कहा कि कैंसर से गंभीर रूप से पीड़ित मेगराही की रिहाई का फ़ैसला स्कॉटलैंड की क्षेत्रीय सरकार ने मानवीय कारणों से किया.

कुछ अमेरिकी सिनेटरों का आरोप है कि बीपी ने कारोबारी लाभ के लिए मेगराही को रिहा किए जाने का समर्थन किया ताकि वह मेगराही के देश लीबिया के साथ तेल कारोबार के समझौते कर सके. 1988 में स्कॉटलैंड के लॉकरबी में अमेरिकी विमान पर हमला हुआ था जिसमें विमान पर सवार 270 लोग मारे गए थे. उनमें 189 अमेरिकी नागरिक थे. मामले की फिर से जांच कराने की मांग डेविड कैमरन ने ठुकरा दी लेकिन कहा कि वे इस बात की जांच कराएंगे कि क्या और दस्तावेजों को प्रकाशित किया जा सकता है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एन रंजन

संबंधित सामग्री