1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बिहार में पुलिसकर्मियों का बचाव अभियान तेज़

सुरक्षा बलों ने बिहार में तीन पुलिसकर्मियों को बचाने का अभियान तेज कर दिया है. इस काम में बीएसएफ के हेलीकॉप्टरों की मदद भी ली जा रही है. तीनों पुलिस वालों को माओवादियों ने लखीसराय से अगवा किया.

default

माओवादियों ने गुरुवार को दावा किया था कि उन्होंने एक अपहृत पुलिसकर्मी को मार दिया है. जंगल में एक लाश भी बरामद हुई लेकिन पुलिस का कहना है कि ये शव उनके सब-इंस्पेक्टर अभय यादव का नहीं है. माओवादियों ने धमकी दी कि शुक्रवार सुबह 10 बजे तक तीनों पुलिसकर्मियों को मार देंगे. सुरक्षा बलों ने इन तीन अगवा पुलिसकर्मियों को ढूंढने का अभियान तेज कर दिया है.

नक्सल विरोधी अभियान के महानिरीक्षक केएस द्विवेदी ने कहा, "सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन, बीएमपी, एसटीएफ और बिहार पुलिस की एसएपी ने तीनों पुलिसकर्मियों को बचाने और माओवादियों के खिलाफ अभियान तेज कर दिया है."

रविवार को इन तीनों पुलिसकर्मियों को मुठभेड़ के दौरान माओवादियों ने पकड़ लिया. द्विवेदी ने जानकारी दी कि बीएसएफ के हेलीकॉप्टर भी इस अभियान में जुटे हुए हैं और पहाड़ी इलाके में नक्सलियों को ढूंढने में मदद कर रहे हैं.

स्थानीय मीडिया में कहा जा रहा है कि अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि जंगल में मिला शव सब-इंस्पेक्टर का नहीं है. इस शव के साथ माओवादियों का लिखा एक नोट भी मिला बताया जाता है. गुरुवार शाम माओवादियों के प्रवक्ता ने दावा किया था कि उन्होंने अगवा किए एक पुलिसकर्मी को मार दिया है, लेकिन अधिकारी इस दावे को गलत मान रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः ए कुमार

DW.COM