1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

बिहार में एनडीए को मिला प्रचंड बहुमत

नीतीश कुमार के नेतृत्व में जेडीयू-बीजेपी गठबंधन ने बिहार चुनाव में 200 सीटें हासिल कर ली हैं जो आम बहुमत से 78 सीटें ज्यादा है. जीत के बाद एनडीए के खेमे में जश्न का माहौल है तो आरेजेडी-एलजेपी और कांग्रेस हार से सन्न हैं.

default

कमाल कर दिया नीतीश ने

बिहार में नई सरकार शुक्रवार को शपथ लेगी. विधानसभा चुनाव में धमाकेदार जीत दर्ज करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, "नई सरकार ऐतिहासिक गांधी मैदान में शुक्रवार को दूसरे कार्यकाल की शपथ लेगी." सूत्रों का कहना है कि एनडीए विधायक दल की गुरुवार को बैठक होगी जिसमें नेता का चुनाव किया जाएगा. एनडीए की बैठक से पहले जेडीयू और बीजेपी के विधायक अलग अलग बैठक करेंगे और सदन में अपने नेता का चुनाव करेंगे.

बिहार विधानसभा की कुल 243 सीटों में से सत्ताधारी गठबंधन ने 200 सीटें जीत ली हैं और 6 सीटों पर उसके उम्मीदवार आगे चल रहे हैं. मुख्यमंत्री जनादेश को एक बड़ी चुनौती के रूप में देखते हैं और उन्होंने कहा है कि काम तो अब शुरू हुआ है और बहुत कुछ दिया जाना अभी बाकी है.

दूसरी तरफ आरजेडी और एलजेपी के गठबंधन की उम्मीदों को चुनावों में करारा झटका लगा है. उसके हिस्से अभी सिर्फ 23 सीटें आई हैं और एक सीट पर उसकी बढ़त बताई जाती है. पिछले बार के चुनाव में दोनों पार्टियों ने मिल कर 64 सीटें जीती थीं. लालू ने अपनी प्रेस कांफ्रेंस में बेहद खिसियाए हुए अंदाज में बिहार चुनाव के नतीजों को स्वीकार किया. लेकिन उन्होंने इसे बार बार कथित जनादेश बताया और इसके पीछे रहस्य की बात भी दोहराते रहे.

कांग्रेस भी पिछले बार की नौ सीटों के मुकाबले सिर्फ चार सीट ही अब तक जीत पाई है. एक सीट पर उसकी बढ़त बरकरार है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नतीजों पर निराशा जताते हुए कहा कि पार्टी को नए सिरे से शुरुआत करनी होगी. एक सीट सीपीआई को मिली है और इसे मिलाकर अन्य खाते में सात सीटें गई हैं. एक सीट पर अभी उनकी बढ़त जारी है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ए जमाल

संबंधित सामग्री