1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

बिन ड्राइवर कार लंदन में अगले साल

अगले साल से ब्रिटेन की सड़कों पर ड्राइवर के बिना कारें दिखने लगेंगी. हालांकि फिलहाल यह प्रोजेक्ट प्रायोगिक स्तर पर ही है. दुनिया भर के कई देश ड्राइवर के बिना कारों पर प्रयोग कर रहे हैं.

ब्रिटेन की सरकार ने सभी शहरों से कहा है कि वे उस नीलामी में हिस्सा लें, जिसके तहत इस प्रयोग को किया जाना है. यह डेढ़ साल से तीन साल तक चलेगा. इसके लिए सरकार एक करोड़ पाउंड मदद देगी.

ड्राइवरलेस कारें बिना सेंसर और कैमरों की मदद से चलती हैं. इन्हें अमेरिका और जापान में टेस्ट किया जा चुका है, जबकि स्वीडन भी ऐसा करने वाला है. ब्रिटेन के वित्त मंत्री विन्से केबल का कहना है कि बिना ड्राइवर वाली कार को तैयार करने में ब्रिटेन के वैज्ञानिक और रिसर्चर सबसे आगे हैं, "हमारे आज के एलान के बाद छह महीने के अंदर हमारी सड़कों पर बिना ड्राइवर वाली कार उतर जाएगी. इससे हम तकनीक के बदलाव में सबसे आगे खड़े होंगे. इससे हमारी अर्थव्यवस्था और समाज को नए विकल्प मिलेंगे."

हालांकि बिना ड्राइवर वाली कारों के बारे में आम लोगों का शक अभी खत्म नहीं हुआ है. ऑटोमोबाइल एसोसिएशन का कहना है कि ताजा सर्वे में पता चला है कि 23,000 सदस्यों में से 43 फीसदी नहीं मानते कि इन परीक्षणों के लिए कानून बदलना चाहिए. इसके अध्यक्ष एडमंड किंग का कहना है कि ड्राइवर बदलने को तैयार नहीं और कई लोग ड्राइविंग में इतना मजा लेते हैं कि इसे छोड़ने को तैयार नहीं.

एक और मोटर ड्राइविंग संस्था आरएसी के तकनीकी निदेशक डेविड बिजले कहते हैं, "कई गाड़ियों में अभी से ऑटोमेटिक ब्रेक जैसी सुविधाएं हैं. दावा किया जा रहा है कि बिना ड्राइवर वाली कार ड्राइवर से बेहतर कार चला सकती है." उन्होंने कहा कि कई ड्राइवरों को इस बात की चिंता सता रही है कि वे गाड़ियों पर अपना नियंत्रण नहीं रख पाएंगे.

एजेए/आईबी (एएफपी)

DW.COM