1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

बिंदास छवि से परेशान मल्लिका

बोल्ड और बिंदास अदाओं के लिए मशहूर अभिनेत्री मल्लिका शेरावत अपनी इसी छवि से परेशान हैं. वह मानती हैं कि बिंदासपन की वजह से ही कोई निर्देशक उनको गंभीरता से नहीं लेता.

मल्लिका को गंभीर और चुनौतीपूर्ण किरदारों की तलाश है. रियलिटी शो द बैचलरेट इंडिया-मेरे ख्यालों की मल्लिका की कामयाबी के लिए मां दुर्गा का आशीर्वाद लेने की खातिर वह पूजा के दौरान एक दिन के लिए कोलकाता में थीं. प्रशंसकों की भारी भीड़ से बचते हुए उन्होंने एक पंडाल में कुछ वक्त गुजारा और आरती की. इसी दौरान उन्होंने डीडब्ल्यू के कुछ सवालों के जवाब दिए. पेश है वह बातचीत-

क्या शुरू से ही फिल्मों में अभिनय करना चाहती थीं?

मैंने जबसे होश संभाला उसी समय से अभिनय के क्षेत्र में आने का इरादा बना लिया था. मैं माधुरी दीक्षित की बड़ी फैन रही हूं. ख्वाहिश फिल्म के लिए तीन सौ लड़कियों के ऑडिशन के बाद मेरे चयन ने इस उद्योग के दरवाजे खोल दिए.

हरियाणा से मुंबई कैसे पहुंची?

मैं एक मध्यवर्गीय परिवार में पली बढ़ी. पिता इंजीनियर थे और मैं दिल्ली के मिरांडा हाउस कालेज में पढ़ती थी. मैं एक ऐसे पुरुष-प्रधान माहौल में बड़ी हुई जहां औरतों के काम करने को अच्छी नजर से नहीं देखा जाता था. मेरे समाज में महिलाओं की कोई इज्जत नहीं थी और उनसे पशुओं की तरह व्यवहार किया जाता था. उनको पढ़ाई भी नहीं करने दी जाती थी. इसलिए मैं घर से भागकर मुंबई पहुंच गई. हरियाणा में तो एक बार मेरी हत्या की भी कोशिश हुई थी. मुंबई आने के बाद मैंने अपना नाम (रीमा लांबा) भी बदल लिया.

करियर के इस चयन पर घरवालों की प्रतिक्रिया कैसी रही?

बेहद कड़ी. सबने मुझसे मुंह मोड़ लिया था. लेकिन अब मेरे भाई मेरे साथ रहते हैं. मां भी हरियाणा से अक्सर मुंबई आती रहती हैं और पिता का नजरिया भी बदलने लगा है. समय हर घाव को भर देता है.

आपने अब तक बिंदास किरदार ही निभाए हैं. इसकी कोई वजह?

दरअसल, मेरी छवि ही कुछ ऐसी बन गई है. इस बिंदास छवि के चलते कोई निर्देशक मुझे गंभीरता से नहीं लेता. मैं तो चुनौतीपूर्ण भूमिकाएं करना चाहती हूं. उम्मीद है कि यह छवि टूटेगी और मुझे कुछ गंभीर भूमिकाएं मिलेंगी.

आपकी नजर में बेहतरीन अभिनेता कौन है?

सबसे पहले तो अमिताभ बच्चन. मैं उनकी बेहद इज्जत करती हूं, लेकिन नसीरुद्दीन शाह बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं. मैं उनकी मुरीद हूं. उनके साथ मैं अपनी अगली फिल्म डर्टी पॉलिटिक्स में काम रही हूं. यह फिल्म राजस्थान की नर्स भंवरी देवी हत्याकांड पर आधारित है.

अब तक के करियर में आपकी सबसे बड़ी उपलब्धि क्या रही है?

बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बनाना ही सबसे बड़ी उपलब्धि मानी जाती है, लेकिन अगर आप फिल्मी परिवार में पैदा नहीं हुए या फिर आपका कोई गॉडफादर नहीं है तो यह बेहद मुश्किल है. जैकी चेन के साथ द मिथ में काम करना मेरे लिए सबसे गौरवमय क्षण था. इसके अलावा हॉलीवुड में मिली मान्यता और अवार्ड भी मेरी उपलब्धि हैं.

क्या कभी नाकामी का सामना भी करना पड़ा है?

मैं खुशकिस्मत हूं कि मान गए मुगले आजम के अलावा मेरी सभी फिल्मों का प्रदर्शन ठीकठाक रहा है. हां, कोई फिल्मी ब्वायफ्रेंड नहीं बना पाना मेरी सबसे बड़ी नाकामी रही है.

आपने हॉलीवुड की कुछ फिल्में भी की हैं. वहां आगे क्या योजना है?

कुछ फिल्मों और धारावाहिकों के बारे में बात चल रही है. वहां आना-जाना लगा रहता है. देखें बात कहां तक बनती है. फिलहाल तो अपने शो में व्यस्त हूं.

आप कई बार शादी को बंधन बता चुकी हैं. ऐसे में यह शो?

कोई भी चीज स्थायी नहीं होती. वक्त के साथ नजरिया भी बदलता रहता है.

रिपोर्टः प्रभाकर, कोलकाता

संपादनः एन रंजन

DW.COM