1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बाल विवाह का गुणगान करने वाले सीरियल पर बैन की मांग

भारतीय टेलिविजन पर दिखाया जा रहा शो 'पहरेदार पिया की' शुरू से ही अपने विषय को लेकर विवाद में रहा. अब तो इसे बैन करने की मांग हो रही है.

भारत में सोनी चैनल पर प्रसारित किए जाने वाले एक शो को बैन करने की मांग उठी है. इस नाटक में 10 साल के एक बच्चे का विवाह 19 साल की एक लड़की से दिखाया गया है. नाटक को बाल विवाह का समर्थन बताकर उसकी आलोचना हो रही है और इसे बंद करने की मांग की जा रही है.

'पहरेदार पिया की' नाम का यह सीरियल सोनी चैनल पर पिछले महीने शुरू किया गया है. यह हर दिन 8.30 बजे के प्राइम टाइम में प्रसारित किया जा रहा है. गुरुवार को Change.org ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय से इस सीरियल पर बैन की मांग करते हुए एक पिटिशन दायर की है. पिटिशन के लॉन्च होने के 48 घंटे के भीतर ही 50 हजार से ज्यादा लोग इस पर साइन कर चुके हैं.

पिटिशन पर साइन करने वाली मानसी जैन ने इस बात पर सवाल उठाया है कि इस शो से दर्शकों पर क्या प्रभाव पड़ेगा. इसमें 10 साल का बच्चा शादी की रस्में पूरी करते हुए दिखाया गया है, जहां वह स्टेज पर खुद से बड़ी नायिका के गले में माला डाल रहा है.

टाटा इस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की प्रोफेसर आशा बाजपेयी कहती हैं, "यह शो बाल विवाह को बढ़ावा दे रहा है. इसमें बाल विवाह का गुणगान किया जा रहा है. यह तो पूरे समाज पर नकारात्मक असर डालेगा."

भारत में कानूनी तौर पर शादी के लिए लड़कियों के उम्र 18 और लड़कों की उम्र 21 होनी चाहिए, लेकिन कई राज्यों में अब भी गैरकानूनी तौर पर बाल विवाह कर दिया जाता है. भारत दुनिया के कुछ उन देशों में शामिल है जहां सबसे ज्यादा बाल विवाह किए जाते हैं. बाल विवाह के मामले में एक लाख रुपये तक का जुर्माना और दो साल तक की सजा का प्रावधान है.

इस शो के कलाकारों ने सोशल मीडिया पर बचाव करते हुए लिखा कि यह सिर्फ मनोरंजन है और ये किसी भी तरह से बाल विवाह का समर्थन नहीं करता. सोनी चैनल ने इस मुद्दे पर अपना कोई बयान नहीं दिया है. हालांकि, सोनी चैनल की वेबसाइट पर इस शो के कई वीडियो हैं जिन्हें ऑनलाइन देखा जा सकता है.

एसएस/ओएसजे (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री