1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

बातचीत के रोडमैप के लिए तैयार नहीं भारतः पाकिस्तान

पाकिस्तान भारत के साथ हुई हालिया विदेश मंत्री स्तर की बातचीत में सभी दोतरफा मुद्दों पर चर्चा के लिए एक रोडमैप तैयार करना चाहता था, लेकिन पाकिस्तानी विदेश विभाग के प्रवक्ता के मुताबिक भारत इसके लिए तैयार न था.

default

भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की बातचीत पर बवाल

अब्दुल बासित ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हालांकि 15 जुलाई को भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा और पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की बातचीत में इस रोडमैप पर कोई फैसला नहीं हुआ, लेकिन भविष्य में इस दिशा में प्रगति की उम्मीद की जा सकती है. उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले दौर की बातचीत से पहले राजनयिक माध्यमों से सभी लंबित मुद्दों के हल के लिए एक रोडमैप की संभावनाओं को तलाशा जाएगा.

बासित का कहना है कि भारतीय पक्ष ऐसे तौर तरीकों में उलझा रहा जिन पर पहले ही बहुत समय खर्च किया जा चुका है. उनके मुताबकि पाकिस्तान ने कश्मीर, अफगानिस्तान और नदियों के जल बंटवारे पर मतभेद जैसे सभी मुद्दों को भारत के साथ उठाया. पाकिस्तानी प्रवक्ता का कहना है कि पाकिस्तान ने खुले दिल से भारत के साथ बातचीत करनी चाही.

एक सवाल के जवाब में बासित ने कहा कि भारत के साथ लंबित मुद्दों को सुलझाने का इकलौता रास्ता कूटनीति और बातचीत है. उन्होंने यह भी बताया कि कृष्णा से मिलने से पहले कुरैशी ने राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी, प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी और अन्य सभी जिम्मेदार लोगों को विश्वास में लिया. कश्मीर के मुद्दे पर बासित का कहना है कि पाकिस्तान ने इस मुद्दे पर अपनी पक्ष जाहिर कर दिया है जिसमें किसी तरह का बदलाव नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा, "कश्मीरी अपने बारे में खुद फैसला लेने के अपने अधिकार के लिए संघर्ष कर रहे हैं. हम इस संघर्ष को नैतिक और कूटनीतिक रूप से समर्थन देते रहेंगे."

बलूचिस्तान में भारत की तरफ से गड़बड़ियां फैलाए जाने के सबूत के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि सही समय पर भारत सरकार को इस बारे में जानकारी दी जाएगी जैसा कि प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने भी कहा है. बासित ने कहा कि 2007 में समझौता एक्सप्रेस पर हुए हमले का मुद्दा भी बातचीत में उठाया गया और इस बारे में भारतीय जांच के निष्कर्षों को साझा करने का आग्रह किया गया है.

पाकिस्तान के दौरे पर गईं अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को भी दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की बातचीत के बारे में जानकारी दी जाएगी. वह अमेरिका और पाकिस्तान के बीच अगले दौर की रणनीतिक वार्ता के लिए इस्लामाबाद के दौरे पर हैं.

रिपोर्टः एजेंसिंया/ए कुमार

संपादनः वी कुमार

संबंधित सामग्री