1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

"बलूचिस्तान की अशांति में भारत का हाथ"

पूर्व पाक राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का कहना है कि बलूचिस्तान में हो रही गड़बड़ियों के लिए भारत जिम्मेदार है. देश का दक्षिण पश्चिमी प्रांत विद्रोहियों का गढ़ है और मुशर्रफ इस विद्रोह को भारत के मत्थे मढ़ना चाहते हैं.

default

परवेज मुशर्रफ ने दावा किया है कि अधिकारियों के पास भारतीय गतिविधियों के पुख्ता सबूत हैं. इस वक्त पाकिस्तान से बाहर रह रहे पूर्व राष्ट्रपति ने बार बार दावा किया कि भारत की वजह से बलूचिस्तान में अशांति बनी हुई है. पूर्व सैन्य शासक ने समाचार चैनल एक्स्प्रेस 24/7 को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि पाकिस्तान सरकार के पास जो सबूत हैं वे काफी मजबूत हैं और वे सबके साथ साझे किए जा चुके हैं. उन्होंने कहा, "यहां तक कि अफगान राष्ट्रपति हामिद करजई को भी सबूत दिए जा चुके हैं."

Unruhen in Pakistanischen Grenzgebieten

बलूचिस्तान में बढ़ती पाक सेना की मुसीबत

पाकिस्तान के गृह मंत्री भी भारत पर इस तरह के इल्जाम लगा चुके हैं. हालांकि उन्होंने कभी भी किसी सबूत का जिक्र नहीं किया. मुशर्रफ के लिए बलूचिस्तान एक दुखती रग रही है. उनके शासनकाल में वहां सेना ने कार्रवाई करके बालोच नेता नवाब अकबर खान बुगती को मार डाला था. इसके बाद से उनके खिलाफ विद्रोह और तेज हो गया. उन पर बुगती की हत्या के आरोप लगाए जाते रहे. इसकी सफाई उन्हें अकसर देनी पड़ती है. इस इंटरव्यू के दौरान भी ऐसे सवाल उठे तो उन्होंने कहा कि सेना का ऑपरेशन बिल्कुल सही था क्योंकि बुगती बलूचिस्तान में समस्याएं पैदा कर रहे थे.

अपने कदम को जायज ठहराने के लिए मुशर्रफ ने बुगती और उनके समर्थकों की कार्रवाई का जिक्र किया. उन्होंने कहा, "एक इंसान 500 रॉकेट दाग रहा है. एक इंसान ने पहाड़ियों पर कब्जा कर लिया है और वह फ्रंटियर सेना पर हथियार और रॉकेटों का इस्तेमाल कर रहा है. वे लोग गैस पाइपलाइन को उड़ा रहे हैं, बिजली के खंभे तोड़ रहे हैं, रेलवे लाइनें उड़ा रहे हैं."

यह सब बताने के बाद मुशर्रफ ने बुगती को भारत से जोड़ दिया. उन्होंने कहा कि बुगती का पोता ब्रमदाग बुगती भारत जाता है तो खुफिया एजेंसी रॉ के एजेंटों से मिलता है. मुशर्रफ ने कहा, "मैं जानता हूं कि वही उसे पैसा और हथियार देते हैं ताकि बलूचिस्तान में गड़बड़ पैदा की जा सके."

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links