बदले के पोर्न के खिलाफ मुहिम | मनोरंजन | DW | 14.12.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

बदले के पोर्न के खिलाफ मुहिम

इंटरनेट पर निजी तस्वीरों का धोखाधड़ी से आम हो जाना कई लड़कियों के लिए भयानक ख्वाब जैसा हो सकता है, हॉली जेकब के साथ जब ऐसा हुआ तो उन्होंने हिम्मत नहीं हारी. उन्होंने इंटरनेट पर ही इसके खिलाफ मुहिम छेड़ी.

अमेरिका की रहने वाली हॉली ने जब अपनी अश्लील तस्वीरें इंटरनेट पर देखीं, तो वह फौरन पुलिस के पास इसकी शिकायत ले कर गयीं. लेकिन वह यह जान कर हैरान रह गयीं कि पुलिस अधिकारी उनकी कोई मदद नहीं कर सकते थे. इस तरह की घटना अपराध नहीं मानी जाती और इसके खिलाफ अमेरिका में कोई कानून भी नहीं है.

अब हॉली ने एक ऐसी वेबसाइट शुरू की है जिसपर वह लोगों के साथ मिलकर सरकार से मांग कर रही हैं कि 'रिवेंज पोर्न' के खिलाफ कानून बनाया जाए. इंटरनेट पर यह एक नया चलन देखा जा रहा है कि कई बार बॉय फ्रेंड अपनी पुरानी प्रेमिकाओं से बदला लेने के लिए उनके निजी पलों की तस्वीरों या वीडियो के एमएमएस को इंटरनेट पर डाल देते हैं. इसी को 'रिवेंज पोर्न' या ‘साइबर रेप' का नाम दिया गया है. इस तरह की घटनाएं दुनिया भर में बढ़ रही हैं और हॉली इसी के खिलाफ मुहिम चला रही हैं. हॉली की वेबसाइट endrevengeporn.org के बारे में डॉयचे वेले ने खुद उन्हीं से जाना.

डीडब्ल्यू: आपको पहली बार कैसे पता चला कि आपके साथ रिवेंज पोर्न की घटना हुई है?

हॉली जेकब: यह जनवरी 2009 की बात है, जब मैं और मेरा बॉय फ्रेंड साढ़े तीन साल के संबंध के बाद एक दूसरे से अलग हुए थे. हम अलग अलग शहरों में रहते थे. हम एक दूसरे को निजी तस्वीरें भेजा करते थे और वेबकैम के जरिए एक दूसरे के साथ निजी पल बांटते थे, ताकि हमारे रिश्ते में उत्साह बना रहे. जनवरी 2009 में मेरी एक दोस्त ने मुझे फोन करके बातया कि मेरी फेसबुक प्रोफाइल पर मेरा फोटो बदल कर मेरी अश्लील तस्वीर लगा दी गई है. मेरा शक सीधे अपने पुराने प्रेमी पर गया.

छह महीने बाद मैंने अपना नाम गूगल किया क्योंकि मुझे शक था कि एक दिन ये तस्वीरें कहीं और भी दिख सकती हैं. गूगल पर मेरा नाम एक पोर्नवेबसाइट के साथ जुड़ा हुआ था. वेबसाइट पर मेरा पूरा नाम, पूरी प्रोफाइल और 12 ऐसी तस्वीरें थीं जो मैंने अपने पुराने बॉय फ्रेंड को भेजी थीं. मैं सफेद पड़ गई, मुझे लगा मेरे दिल की धड़कन रुक गई है. मुझे कुछ सूझ नहीं रहा था. मैं बस किसी तरह वहां से बाहर निकलना चाहती थी, और मामले को सुलझाना चाहती थी.

Cybersex

डीडब्ल्यू: आपने अपनी सुरक्षा के लिए और खुद को काबू में करने के लिए क्या किया?

हॉली जेकब: मैंने मियामी पुलिस को फोन किया. मुझे लगा वे तुरंत मेरी मदद करेंगे. कुछ तो ऐसा होगा जो वे कर सकेंगे, मेरे पूर्व प्रेमी को ढूंढेंगे और उसे हिरासत में लेंगे. लेकिन मुझे इस बात की हैरानी हुई जब पुलिस ने मुझे बताया कि वह जो कर रहा है वह गैरकानूनी नहीं है. मैं 18 साल से ज्यादा उम्र की थी जब वे तस्वीरें ली गईं. वे तस्वीरें मैंने खुद उसे दी थीं, इसलिए उन पर उसका अधिकार है, और वह उन तस्वीरों के साथ जो चाहे कर सकता है. हर छह महीने में वे तस्वीरें कहीं ना कहीं से किसी नई वेबसाइट पर सामने आ जाती थीं. मैंने सीख लिया था कि वेबसाइट के मालिक को कैसे संपर्क करना है और उनसे भीख मांगती थी कि वह मेरी तस्वीरें हटा दें.

डीडब्ल्यू: इस सबका आप पर क्या असर पड़ा?

हॉली जेकब: इससे मेरी जिंदगी का हर हिस्सा प्रभावित हुआ. मुझे अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी क्योंकि मेरे बारे में सारी जानकारी मेरी तस्वीरों के साथ आम हो चुकी थी और मुझे डर था कि कहीं कोई मेरा पीछा ना करे या मुझ पर हमला ना कर दे. मैंने अपना नाम बदल लिया. खुशकिस्मती से मेरे दोस्तों और परिवार ने मेरा साथ दिया.

डीडब्ल्यू: लोगों ने आपका साथ दिया, यानि आपको किसी ने इसके लिए दोषी नहीं ठहराया?

हॉली जेकब: किसी ने मेरे मुंह पर कभी कुछ नहीं कहा. इंटरनेट पर कई लोग आज मुझे ईमेल से या ट्वीट करके कहते हैं, "तुम्हें इस तरह की तस्वीरें लेनी ही नहीं चाहिए थीं." यह बिल्कुल वैसा ही है जैसे किसी बलात्कार पीड़ित से लोग कहते हैं कि उसने छोटी स्कर्ट क्यों पहनी हुई थी या शराब क्यों पी.

लेकिन जब आप किसी से प्यार करते हैं, उस पर विश्वास करते हैं तो किसी से पूछते नहीं. लोगों को पीड़ित पर आरोप लगाने के बजाए अपराध करने वालों पर दोष लगाना चाहिए. वे सिर्फ तस्वीरें ही नहीं छाप रहे बल्कि उस इंसान का पूरा नाम, ईमेल आइडी, फोन नंबर, घर और काम का पता तक छाप रहे हैं. वे ऐसा सिर्फ किसी की जिंदगी बर्बाद करने के मकसद से कर रहे हैं.

डीडब्ल्यू: 2012 में आपने रिवेंज पोर्न के खिलाफ अपनी वेबसाइट शुरू की, यह बड़ा कदम था. क्या आपको कभी यह ख्याल आया कि खामोश रह कर कुछ दिनों में मामला दबा दिया जाए?

हॉली जेकब: वे लोग खामोश नहीं बैठ रहे थे. मेरे कानूनी तैर पर अपना नाम बदल लेने के बाद भी मुझ पर इसका असर खत्म नहीं हुआ. मैं जिंदगी भर के लिए कहीं छुप कर नहीं बैठ सकती थी. दूसरी वजह यह थी कि मैंने अपनी तरह कई दूसरे पीड़ित भी देखे. मैं खुद को भी बचाना चाहती थी और उन लोगों की भी मदद करना चाहती थी जिनके साथ यह सब हो रहा था.

डीडब्ल्यू: किस तरह के लोग आपके साथ वेबसाइट पर जुड़ रहे हैं?

हॉली जेकब: जबसे मैंने वेबसाइट शुरू की है हजारों लोगों ने मुझसे संपर्क किया है. सिर्फ अमेरिका से ही नहीं, बल्कि दुनिया के अलग अलग हिस्सों से. उन लोगों को ना सिर्फ अपनी नौकरियां गंवानी पड़ीं, बल्कि अपना पेट भरने के लिए अब वे सरकारी योजनाओं पर निर्भर हैं. कई ऐसे भी हैं जो गंभीर मनोवैज्ञानिक बीमारियों से जूझ रहे हैं, क्योंकि उन्हें चिंता और अवसाद भी होता है. कई लोगों को आत्महत्या करने का ख्याल आता है. कुछ लोगों के साथ तो ऐसा भी हुआ कि अनजान लोग उनके घर पहुंच गए और कहा कि उन्होंने उनका विज्ञापन ऑनलाइन देखा था.

जब भी मैं इस तरह की कहानियां पढ़ती हूं, तो मुझे विश्वास नहीं होता कि मैं क्या पढ़ रही हूं. मैं यकीन नहीं कर पाती कि इस तरह के लोग मौजूद हैं, जो ऐसी हरकतें करते हैं.

हॉली जेकब के साथ रिवेंज पोर्न की घटना तब हुई जब वह फ्लोरिडा में पीएचजी कर रही थीं. उस समय अमेरिकी अधिकारियों ने उनकी शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया. इससे संबंधित कानूनी स्थिति अस्पष्ट है. अमेरिका में केवल दो राज्यों में रिवेंज पोर्न के खिलाफ कानून है, जबकि बाकी जगह इस बारे में नए कानून बनाने पर चर्चा चल रही है. कुछ यूरोपीय देशों में निजता से संबंधित कानून हैं जिनसे पीड़ितों की मदद हो सकती है. अपनी वेबसाइट के जरिए हॉली लोगों के बीच इस बारे में जागरुकता पैदा करना चाहती हैं. उनकी कोशिश है कि बिना इजाजत इंटरनेट पर किसी के बारे में जानकारी डालने को गैरकानूनी करार दिया जाए.

इंटरव्यू: नील किंग/ एसएफ

संपादन: ईशा भाटिया

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री