1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

बट और आमेर को फिक्सिंग का दाग मिटने की उम्मीद

स्पॉट फिक्सिंग मामले में अपनी अपीलों पर सुनवाई के लिए पाकिस्तानी क्रिकेटर मोहम्मद आमेर और सलमान बट दुबई पहुंच गए हैं. उन्हें अपने ऊपर लगे आरोप गलत साबित होने और वापस टीम में जगह मिलने की उम्मीद है.

default

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) दोनों खिलाड़ियों की अपील पर अगले दो दिनों में सुनवाई करेगी. शुक्रवार को दुबई रवाना होने से पहले बट ने कहा कि वह निर्दोष हैं और उम्मीद जताई कि अगले दो दिनों में चीजें साफ हो जाएंगी. वहीं आमेर ने भी खुद पर लगा स्पॉट फिक्सिंग का दाग हट जाने और टीम में जगह पाने की उम्मीद जताई.

Pakistan Cricket Manipulation

सितंबर में एक ब्रिटिश अखबार के स्टिंग ऑपरेशन में स्पॉट फिक्सिंग के आरोप लगने के बाद आईसीसी ने उन्हें सस्पेंड कर दिया था. इस मामले सस्पेंड होने वाले तीसरे पाकिस्तानी क्रिकेट मोहम्मद आसिफ अपनी अपील वापस ले चुके हैं.

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान बट का कहना है, "मुझे विश्वास है कि मेरे ऊपर लगे आरोप गलत साबित होंगे. मैं इनसे काफी परेशान रहा हूं क्योंकि इन आरोपों की वजह से न सिर्फ मेरी बदनामी हुई है, बल्कि मेरे पूरे करियर को खतरा पैदा हो गया है. आपकी जिंदगी में ऐसी चीजें आती हैं और आपको हिम्मत से उनका सामना करना पड़ता है."

बट ने स्टिंग ऑपरेशन में सट्टेबाज के तौर पर दिखाए गए मजहर मजीद नाम के व्यक्ति से अपने संबंधों का बचाव किया. उनके मुताबिक वह उन्हें विज्ञापन या प्रचार का काम दिलवाना चाहता था. वह कहते हैं, "वह मेरा एजेंट नहीं था. मेरे वहां पहुंचने से पहले से ही वह वहां था. यह पीसीबी की आचार संहिता का हिस्सा नहीं है कि आपको खिलाड़ियों के लिए एजेंट का काम करने वालों के बारे में भी बताना होगा."
बट ने कहा कि उन्होंने ब्रिटिश अखबार के स्टिंग ऑपरेशन का पूरा वीडियो नहीं देखा है जिनमें नो बोल की डील पर बात करते हुए मजीद को नोटों की गड्डियां गिनते दिखाया गया है. वह कहते हैं, "मैं न्यूज ऑफ द वर्ल्ड के बारे में कुछ भी नहीं कहना चाहता हूं. हर कोई जानता है कि यह किस तरह का अखबार है. सबको पता है कि दुनिया में उसकी छवि किस तरह की है."

बट ने इस टेबलॉयड अखबार के वीडियो की विश्वसनीयता पर भी संदेह जाहिर किया.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links