1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बच्चों के अश्लील वीडियो से सकते में पाकिस्तान

पाकिस्तान में बच्चों के अश्लील वीडियो बनाने वाले सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है. माता पिता पुलिस के रवैये से निराश हैं. सरकार ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए.

"जब तक कैमरे में देख कर मुस्कुराओगे नहीं, मैं रुकूंगा नहीं." इस बच्चे को पीटा जा रहा है, इसका यौन शोषण किया जा रहा है और यह सब वीडियो में रिकॉर्ड हो रहा है. पाकिस्तान में इस तरह के 400 से ज्यादा वीडियो बने हैं. लाहौर के करीब पंजाब के हुसैन खानवाला गांव में कम से कम 300 बच्चों के साथ यौन दुर्व्यवहार किया गया. इन बच्चों की उम्र पांच से चौदह साल के बीच है. 18 साल के एक युवक ने बताया कि जब वह दस साल का था तबसे उसका बलात्कार किया जा रहा है, "एक दिन मैं स्कूल जा रहा था. रास्ते में कुछ लड़कों ने मुझे उठा लिया और खूब पीटा. फिर उन्होंने मुझे नशीली दवा दे दी. जब मुझे होश आया, उन्होंने मुझे मेरे वीडियो दिखाए. उन्होंने कहा कि अगर मैंने किसी से कुछ कहा, तो वो मुझे जिंदा गाड़ देंगे."

गांव वालों का आरोप है कि पुलिस मामले को दबाने की कोशिश कर रही है. एक निवासी शकीला बीबी ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया, "मैं शिकायत दर्ज कराने थाने गयी लेकिन रिपोर्ट लिखने की जगह उन लोगों ने मेरे बेटे को ही हिरासत में ले लिया." एक अन्य निवासी सुरैया बीबी ने कहा कि वीडियो बनाने वालों ने उन्हें धमकी दी थी कि अगर वे पुलिस के पास गयी, तो बच्चे का वीडियो लीक कर दिया जाएगा. उन्होंने बताया, "एक दिन गांव की कुछ औरतों ने मुझे ये वीडियो दिखाए. मेरा बेटा भी उनमें था. मेरी दुनिया वहीं बिखर गयी." उनका कहना है कि बच्चों को नशीली दवाएं दे कर या फिर चाकू की नोक पर उनका यौन शोषण किया जाता है. इन वीडियो को चालीस रुपये में बाजार में बेचा जा रहा था.

वहीं इलाके के पुलिस प्रमुख शहजाद सुलतान ने समाचार एजेंसी एएफपी से बात करते हुए इसे एक पुराना मामला बताया. उन्होंने कहा, "जो लोग खुद को पीड़ित बता रहे हैं, वे दरअसल एक पुराने भूमि विवाद का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं. हमें जब इस बारे में पता चला था, तब हमने मस्जिद के जरिए ऐलान करवाया था और मामला खत्म हो गया था." उनका कहना है कि इलाके के कुछ युवा "मौज मस्ती में सहमति से हुए सहवास" के वीडियो बना रहे हैं. इसके विपरीत चाइल्ड प्रोटेक्शन ब्यूरो की अध्यक्ष सबा सादिक ने इसे "पाकिस्तान के इतिहास में सबसे बड़ा चाइल्ड अब्यूज स्कैंडल" बताया है.

इस सिलसिले में अब तक सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है और दस अन्य की खोज जारी है. पंजाब के मुख्य मंत्री शाहबाज शरीफ ने इस सेक्स रैकेट की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने एक बयान जारी कर कहा है कि आरोपियों को "कड़ी सजा दी जाएगी और बच्चों के परिवारों को हर कीमत पर न्याय दिलाया जाएगा." यह पाकिस्तान में व्यवस्थित रूप से बाल शोषण का कथित पहला मामला है.

आईबी/एमजे (रॉयटर्स, एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री