1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बच्चों का यौन शोषण किया है तो पासपोर्ट पर लिखा जायेगा

अमेरिका में बच्चों का यौन शोषण करने के दोषी लोगों के पासपोर्ट पर उनके अपराध का जिक्र लिखा होगा. देश के बाहर जाने पर उनके बारे में लोगों को पता होगा कि उन्होंने पहले कभी बच्चों का यौन शोषण किया था.

अमेरिका के विदेश विभाग ने बुधवार को यह जानकारी दी. मंत्रालय उन लोगों के पासपोर्ट वापस ले रहा है जिन्हें बच्चों के साथ सेक्स अपराध का दोषी करार दिया गया है. इन सभी लोगों को पासपोर्ट के लिये नया आवेदन करना होगा जिसमें एक "विशिष्ट पहचान" का कॉलम होगा और वहां उनके बारे में यह जानकारी दर्ज होगी. जो लोग पहली बार पासपोर्ट के लिए आवेदन कर रहे हैं, उन्हें बिना इस पहचान के पासपोर्ट जारी नहीं किया जाएगा. पासपोर्ट में इस जानकारी को एक नोटिस की तरह पिछले कवर के भीतरी हिस्से पर छापा जाएगा. इसमें लिखा होगा, "धारक को नाबालिग के खिलाफ यौन अपराध का दोषी माना गया है और वह अमेरिका के कानून में यौन अपराधी है."

इस कानून से प्रभावित लोग अपने मौजूदा पासपोर्ट पर तब तक यात्रा कर सकते हैं जब तक कि उनका पासपोर्ट जब्त करने की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती. विदेश विभाग का यह भी कहना है कि नोटिस की भाषा ऐसी नहीं होगी कि इन लोगों को प्रत्यर्पित किया जाय या फिर इससे पासपोर्ट की वैधता पर कोई सवाल नहीं होगा.

विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर जारी बयान में यह भी कहा गया है कि जो लोग बच्चों के साथ यौन अपराध के दोषी हैं, उन्हें छोटे यात्रा दस्तावेज जारी नहीं किये जाएंगे. इन्हें अमेरिका में पासपोर्ट कार्ड कहा जाता है. इनमें इतनी जगह नहीं होती की ऐसी नोटिस को डाला जा सके.

यह बदलाव "इंटरनेशनल मेगान्स लॉ" की वजह से आये हैं, जिन्हें पिछले साल बच्चों का यौन शोषण और बच्चों के सेक्स टूरिज्म को रोकने के मकसद से लागू किया गया है. नागरिक आजादी की मांग करने वाले इसे जरूरत से ज्यादा व्यापक बताते हैं और साथ ही सिर्फ एक ही तरह के दोषियों को निशाना बनाने वाला बताते हैं. आलोचकों का यह भी कहना है कि इससे प्रभावित होने वाले लोगों के कानूनी रूप से विदेश यात्रा सीमित हो जाएगी.

इस कानून का यह नाम मेगान कांका के नाम पर दिया गया है. न्यू जर्सी की 7 साल की इस लड़की की 1994 में एक यौन अपराधी ने हत्या कर दी थी. इस मामले को लेकर बहुत हो हल्ला हुआ और फिर कई राज्यों में यौन अपराधियों को दर्ज करने की व्यवस्था बनायी गयी. सरकारी एजेंसियों ने बुधवार को संसद को यह जानकारी दी कि पासपोर्ट के लिए इस कानून को लागू कर दिया गया है. अमेरिका में पासपोर्ट जारी करने वाले विदेश विभाग ने कहा है कि जो लोग इस कानून से प्रभावित होने वाले हैं, उनके नाम संबंधित विभाग से मिलने के साथ ही वह उन्हें इसकी सूचना भेजना शुरु कर देगा. अमेरिका में होमलैंड सिक्योरिटी डिपार्टमेंट को बच्चों के यौन शोषण करने वालों की पहचान करने का जिम्मा सौंपा गया है. इस सूची में किसी का नाम डालने या फिर निकालने का अधिकार सिर्फ इसी विभाग को है.

एनआर/आईबी (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री