1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बंगाल में माओवादियों का तांडव, चार जवानों की हत्या

आपरेशन ग्रीन हंट के विरोध में पांच राज्यों में 48 घंटे बंद के दूसरे और आखिरी दिन बुधवार को माओवादियों ने पश्चिम बंगाल में जम कर तांडव मचाया. उन्होंने बारूदी सुरंग के जरिए विस्फोट कर सीआरपीएफ के चार जवानों को मार डाला.

default

ट्रेन सेवाएं प्रभावित

नक्सलियों ने पश्चिम मेदिनीपुर जिले के झाड़ग्राम इलाके में रेल की पटरी भी उड़ा दी. उनके हमलों ने मेदिनीपुर जिले में रेल सेवाएं अस्त व्यस्त कर दी हैं. कोलकाता से गया और मुगलसराय जाने वाली तमाम ट्रेनें घंटों से अलग अलग स्टेशनों पर ठहरी हुई हैं.

माओवादियों के 48 घंटे बंद का पहला दिन तो लगभग शांतिपूर्ण तरीके से ही गुजर गया. लेकिन आधी रात के बाद ही उन्होंने अपनी गतिविधियां बढ़ा दीं. रात को लगभग दो बजे झाड़ग्राम और खाटकूरा स्टेशनों के बीच रेलवे की पटरी को विस्फोट से उड़ा दिया. इससे मालगाड़ी के चालक और सहायक चालक घायल हो गए. विस्फोट से पटरियों व मालगाड़ी के इंजन को काफी नुकसान पहुंचा. इस विस्फोट के बाद इलाके में ट्रेन सेवाएं ठप हो गईं. कुछ ट्रेनों को रद्द कर दिया गया तो कुछ ट्रेनें घंटों अलग अलग स्टेशनों पर खड़ी रहीं. गया सेक्शन में पटरियों के पास दो और विस्फोटक बरामद होने के बाद राजधानी और दूरंतो एक्सप्रेस समेत कई ट्रेनों को रोक दिया गया. कोई आठ घंटे के बाद इलाके में ट्रेन सेवाएं आंशिक तौर पर बहाल की गई हैं.

सहायक पुलिस महानिदेशक (रेलवे) दिलीप मित्रा ने बताया कि विस्फोट सुबह दो बजे हुआ. मालगाड़ी का इंजन क्षतिग्रस्त हो गया. चालक और उसके सहायक को हल्की चोटें आईं हैं. विस्फोट की वजह से ओवरहेड तार भी टूट गया.

दूसरी ओर, माओवादियों ने बारूदी सुरंग के जरिए विस्फोट कर सीआरपीएफ के एक गश्ती वाहन को उड़ा दिया. इसमें चार जवानों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए. घायलों में सीआरपीएफ के दो डिप्टी कमांडेंट शामिल हैं. दो घायलों की हालत बेहद गंभीर है. उनको इलाज के लिए कोलकाता लाने की व्यवस्था की जा रही है. यह विस्फोट पिंगबनी और रामगढ़ के बीच बुधवार की सुबह उस समय हुआ, जब सुरक्षाबल के जवान इलाके में गश्त लगा रहे थे. बारूदी सुरंग को सड़क पर बनी एक पुलिया के नीचे लगाया गया. विस्फोट में सीआरपीएफ का वाहन पूरी तरह नष्ट हो गया. सरकारी सूत्रों का कहना है कि इस मामले में मरने वालों की तादाद बढ़ सकती है.

पूर्वी क्षेत्र के सीआरपीएफ आईजी एम नागेश्वर राव ने विस्फोट की पुष्टि करते हुए बताया कि आईईडी धमाके में सीआरपीएफ के चार जवान मारे गये हैं और दो घायल हुए हैं. माओवादी धमाकों के बाद इलाके में बड़ी तादाद में सुरक्षा बल के जवानों को भेजा गया है. पूरे इलाके को घेर कर तलाशी अभियान चलाया जा रहा है. लेकिन अब तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है.

रिपोर्टः प्रभाकर, कोलकाता

संपादनः ए जमाल