फ्रॉयड की अस्थियां चुराने की कोशिश | मनोरंजन | DW | 16.01.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

फ्रॉयड की अस्थियां चुराने की कोशिश

मनोविज्ञान को परिभाषित करने वाले सिग्मुंड फ्रॉयड की अस्थियों को चुराने की कोशिश की गयी है और उनके 2,400 साल पुराने अस्थि कलश को नुकसान पहुंचा है.

यह कलश चार ईसा पूर्व ग्रीस का है जो वाइन और आनंद के ग्रीक देवता 'डायोनिसुस' को दर्शाता है. पुलिस ने बताया कि अस्थि कलश को "काफी नुकसान पहुंचा है. लंदन के एक क्रिमेटोरियम में रखे इस कलश को फिलहाल आम जनता के लिए बंद कर दिया गया है. पुलिस ने लोगों से अपील की है कि "निर्दयी" लोगों को पकड़वाने में मदद करें.

हालांकि पुलिस ने इस घटना को अब सार्वजनिक किया है पर यह नए साल की शाम को घटी. पुलिस विभाग के डैनियल शैंडलर ने कहा, "अगर उस अनमोल कलश को पहुंचे नुकसान को नजरअंदाज भी कर दें और यह भी भूल जाएं कि उसकी ऐतिहासिक अहमियत है, तो भी यह बात हैरान कर देने वाली है कि किसी ने यह जानते हुए ऐसी चीज की चोरी करनी चाही जिसमें किसी इंसान के आखिरी अवशेष हैं."

वियना से लंदन

सिग्मुंड फ्रॉयड का निधन 1939 में लंदन में ही हुआ. और उनकी अस्थियों को उनके घर के पास गोल्डर्स ग्रीन क्रिमेटोरियम में रखा गया. बाद में 1951 में उनकी पत्नी मार्था फ्रॉयड की अस्थियों को भी उनके साथ ही रखा गया. जिस कलश में इन्हें रखा गया वह फ्रॉयड की करीबी और मनोवैज्ञानिक राजकुमारी मारी बोनापार्ट ने उन्हें भेंट किया था. वे नेपोलियन बोनापार्ट के परिवार से नाता रखती थीं और ग्रीस और डेनमार्क की राजकुमारी थीं.

फ्रॉयड यहूदी थे. 1938 में जब हिटलर ने ऑस्ट्रिया पर कब्जा कर लिया तब मारी बोनापार्ट ने ही फ्रॉयड और उनकी बेटी आना को वियना से भागने में मदद की थी. उसी साल फ्रॉयड विएना का अपना घर छोड़ लंदन के हैम्पस्टीड इलाके में जा बसे. 1982 में बेटी आना फ्रॉयड की मौत के बाद उनके घर को फ्रॉयड म्यूजियम में तब्दील कर दिया गया.

पुरानी चीजों के शौकीन

मनोवैज्ञानिक होने के साथ साथ फ्रॉयड पुरानी चीजें जमा करने के शौकीन थे. मिस्र, ग्रीस और रोमन साम्राज्य से जमा की गयी उनकी करीब 2,000 चीजों को म्यूजियम में रखा गया है. अस्थियां रखने के लिए इन्हीं में से उस 2,400 साल पुराने कलश को चुना गया था.

म्यूजियम के निदेशक डॉन कैम्प ने बताया कि इन चीजों के जरिए फ्रॉयड इंसान के बर्ताव को बेहतर समझने की कोशिश करते थे, इनके जरिए वे मनोविश्लेषण किया करते थे. हालांकि उन्होंने कलश की असली कीमत बताने से यह कह कर इंकार कर दिया कि यह फ्रॉयड का पारिवारिक मामला है.

जिस क्रिमेटोरियम से अस्थि कलश चोरी करने की कोशिश की गई है वहां और भी कई बड़ी शख्सियतों की अस्थियां रखी गयी हैं. इनमें 'ड्रैकूला' के लेखक ब्रैम स्टोकर भी शामिल हैं.

आईबी/एमजे (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM