1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फ्रैंकफर्ट के आगे माइंत्स पस्त, शाल्के ने बायर्न को हराया

फ्रैंकफर्ट के आगे पस्त माइंत्स ने डॉर्टमुंड को बिना कोई मैच खेले ही विंटर ब्रेक खत्म होने तक टॉप पर बने रहने का मौका दे दिया है. फ्रैंकफर्ट ने 2-1 से शिकस्त देकर माइंत्स के टॉप पर पहुंचने का सपना चकनाचूर कर दिया.

default

इस हार के साथ अब डॉर्टमुंड और माइंत्स के बीच अंकों का फासला बढ़कर सात हो गया है. इस बीच माइंत्स रविवार को जब न्यूरेमबर्ग के साथ भिड़ेगी तो बहुत मुमकिन है कि यह फासला और बढ़े. माइंत्स के कोच ने बड़ी साफगोई से कहा, "हम पूरे मैच के दौरान कभी लय में नहीं दिखे, हमारा खेल बेदम और घटिया था."

माइंत्स के आगे फ्रैंकफर्ट का खेल एक दम फीका था. बावजूद इसके मेजबान टीम को विजयी गोल के लिए 84 मिनट तक इंतजार करना बड़ा. बुंडेसलीगा के टॉप स्कोरर फानिस गेकास ने इसी मिनट में पेनल्टी शूट को गोल में बदला. गेकास 14 मैचों में 13 गोल कर चुके हैं. फ्रैंकफर्ट की टीम थोड़ी देर के लिए उत्साह में जरूर दिखी. 35वें मिनट में माइंत्स के डिफेंडर आंद्रे शुएरेल बॉक्स के भीतर लड़खड़ा गए और सेंट्रल डिफेंडर ने 10 मीटर दूर से गेंद को गोल के भीतर पहुंचा दिया.

हाफ टाइम से तीन मिनट पहले तुर्की के हलील एल्टिंटॉप ने मार्सेल रिसे के साथ फाउल किया और इसके साथ ही शुएरेले ने पेनल्टी शूट के जरिए हिसाब बराबर कर दिया. यह उनका सीजन का सातवां गोल था.

उधर चैम्पियन टीम बायर्न म्युनिख को शाल्के ने 2-0 से हराकर पिछले सात मैचों से चले आ रहे उसके जीत के सफर को रोक दिया. इस जीत के साथ ही शाल्के ने बायर्न म्यूनिख को सातवें नंबर पर धकेल दिया. बावेरिया के खिलाड़ियों ने गोल के कई मौके गंवाए जबकि शाल्के की टीम पूरी लय में थी. खेल के दूसरे हाफ में जोस मैनुएल युराडो और बेनेडिक्ट होएवेडिस ने दो गोल किए. पिछले सीजन की उपविजेता रही टीम के अब 16 अंक हो गए हैं.

शाल्के की तरफ से खेल रहे जर्मन गोलकीपर मैनुएल नोयर मैन ऑफ द मैच रहे. पहले हाफ में करिश्मा दिखाने वाले श्वाइंत्सटाइगर और टोनी क्रॉस को पछाड़कर उन्होंने यह खिताब हासिल किया. जीत से उत्साहित कोच लुइस फोन गाल ने कहा, "अगर हम इसी तरह खेलते रहे तो हम कभी नहीं हारेंगे, जीत के लिए जरूरी होता है कि आप गोल करें और अगर आप इसका मौका खो देते हैं तो फिर जीत की कोई गुंजाइश नहीं."

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links