फ्रेंच राष्ट्रपति माक्रों ने की बर्लिन में मैर्केल से मुलाकात | दुनिया | DW | 15.05.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फ्रेंच राष्ट्रपति माक्रों ने की बर्लिन में मैर्केल से मुलाकात

फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों पद संभालने के एक दिन बाद बर्लिन पहुंचे और चांसलर अंगेला मैर्केल से मुलाकात की. फ्रेंच जर्मन संबंधों पर जोर देने के अलावा यूरोपीय सुधार उनके एजेंडे पर था.

काम के पहले दिन नये प्रधानमंत्री एदुआर फिलिप को नियुक्त कर माक्रों ने पहले अंतरराष्ट्रीय दौरे के लिए बर्लिन को चुना. बार्ता से पहले उनका सैनिक सम्मान के साथ स्वागत किया गया.

दोनों नेताओं ने संकेत दिया कि यूरो जोन में सुधारों के लिए यदि यूरोपीय संघ की संधियों में बदलाव करना पड़ा तो वे इसके लिए खुले हुए हैं. चांसलर मैर्केल ने कहा, "जर्मन नजरिये से यदि उचित हो तो संधि में संशोधन संभव है." माक्रों ने भी कहा कि इस मुद्दे पर कोई पाबंदी नहीं है.

फ्रेंच राष्ट्रपति ने अपने देश में दूरगामी सुधारों का वादा किया. चांसलर अंगेला मैर्केल के साथ बातचीत के बाद उन्होंने कहा कि उनके द्वारा नियोजित आर्थिक और सामाजिक सुधार यूरोप के लिए भी आगे बढ़ने के लिए महत्वपूर्ण हैं.

माक्रों ने कहा कि फ्रांस पिछले 30 वर्षों से भारी बेरोजगारी की समस्या का समाधान नहीं कर पाया है. उन्होंने इस पर जोर दिया कि उनकी सरकार इस समस्या के समाधान पर ध्यान लगायेगी. उन्होंने कहा कि फ्रांस और जर्मनी ऐतिहासिक घड़ी तक पहुंच गये हैं जहां पॉपुलिस्टों के आगे बढ़ने को रोकने के लिए उन्होंने निकट सहयोग करना होगा.

यह मुलाकात ऐसे समय में हुई है जब फ्रांस में अगले महीने संसदीय चुनाव होने वाले हैं. इसमें निर्दलीय माक्रों अपने लिए संसद में बहुमत जीतने की कोशिश करेंगे ताकि वे अगले पांच सालों में अपने सुधारों को लागू करवा सकें. जर्मनी में भी सितंबर में संसदीय चुनाव होने वाले हैं और यूरोप ब्रेक्जिट सहित कई चुनौतियों का सामना कर रहा है.

दोनों नेताओं की पहले भी फ्रांसीसी राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार के दौरान मुलाकात हो चुकी है.

एमजे/एके (एएफपी, डीपीए)

संबंधित सामग्री