1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फ्रांस में छापे, 'हथियार बनाने वाली लैब' मिली

फ्रांस में पुलिस का कहना है कि उसने छापों के दौरान चार संदिग्ध आतंकवादियों को पकड़ा है. अधिकारियों ने एक ऐसी प्रयोगशाला मिलने की बात भी कही है जिसे विस्फोटक बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता था.

अभियोजकों ने बताया कि फ्रांस के शहर मोंपेलिए में शुक्रवार को आतंकवाद रोधी पुलिस ने छापे मारे. एक अधिकारी के मुताबिक ऐसी जानकारी मिली थी कि चार लोग एक पर्यटन स्थल पर आत्मघाती हमले की योजना बना रहे हैं. उसके बाद ये छापे मारे गए.

जिन चार लोगों को हिरासत में लिया गया है उनमें एक 16 वर्षीय लड़की भी शामिल है. सूत्रों के मुताबिक अन्य संदिग्धों की उम्र 20, 26 और 33 साल है. इन लोगों पर चरमपंथियों से संबंध रखने के संदेह में पहले से नजर रखी जा रही थी.

पेरिस में व्यंग पत्रिका शार्ली एब्दो के दफ्तर पर जनवरी 2015 के हमले के बाद से ही फ्रांस में कट्टरपंथी आतंकवाद को लेकर सतर्कता बरती जा रही है. शार्ली एब्दो हमले के बाद उसी साल नवंबर में भी पेरिस में कई जगहों पर हमले किए गए. इसके अलावा पिछले साल जुलाई में नीस शहर में छुट्टी के दिन एक हमले में आम लोगों को निशाना बनाया गया था. 

पेरिस के सरकारी अभियोजक कार्यालय का कहना है कि शुक्रवार को मारे गए छापों के दौरान एक घर से 70 ग्राम टीएटीपी रसायन मिला है. इसी पदार्थ से बनाए गए कुछ हथियारों का इस्तेमाल पेरिस हमलों और मार्च 2016 में ब्रसेल्स में हुई आतंकवादी हिंसा के दौरान किया गया था.

पिछले हफ्ते ही मिस्र के एक नागरिक ने चाकू से पेरिस के मशहूर लूव्रे म्यूजियम में एक सैनिक पर हमला करने की कोशिश की. पुलिस अब भी यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या इस व्यक्ति का जिहादियों से कोई संपर्क है. फ्रांस में पिछले दो साल के दौरान हुए आतंकवादी हमलों में 200 से ज्यादा लोग मारे गए हैं.

एके/एमजे (एपी, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री