1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फ्रांस को दहलाने की बड़ी साजिश नाकाम

यूरो 2016 फुटबॉल मुकाबले के दौरान फ्रांस को दहलाने का मंसूबा नाकाम हुआ. यूक्रेन की पुलिस ने फ्रांस के उग्र दक्षिणपंथी को गिरफ्तार किया. उसके पास हथियारों का जखीरा मिला.

यूक्रेन की सुरक्षा एजेंसी का दावा है कि संदिग्ध उग्र दक्षिणपंथी यूरो 2016 के दौरान बड़े हमले करने की फिराक में था. यूरोप की शरणार्थी नीति से बेहद नाराज संदिग्ध के पास से 125 किलोग्राम बारूद, 100 डेटोनेटर, कुछ ग्रेनेड लॉन्चर और सैकड़ों कारतूस बरामद हुए हैं. सिक्योरिटी सर्विस (एसबीयू) के चीफ वासिल ग्रिटसाक के मुताबिक 25 साल का दक्षिणपंथी कई जगहों पर मस्जिदों, यहूदी सिनेगॉग, टैक्स सेवाओं से जुड़े संगठन और सार्वजनिक परिवहन को निशाना बनाना चाहता था.

ग्रिटसाक के मुताबिक संदिग्ध ने 21 मई को यूक्रेन की सीमा पार कर पोलैंड में दाखिल होने की कोशिश की, तभी उसे गिरफ्तार कर लिया गया. पोलैंड में दाखिल होने के बाद संदिग्ध को रोक पाना बहुत मुश्किल होता. पोलैंड यूरोपीय संघ का सदस्य है और वीजा मुक्त शेनेगन जोन में आता है. संदिग्ध पर बीते साल दिसंबर से नजर रखी जा रही थी. तब एसबीयू को खबर मिली थी कि "एक फ्रांसीसी नागरिक

Euro 2016 Fan Zone Champs de Mars Paris Frankreich Sicherheit Security

फ्रांस में और कड़ी हुई सुरक्षा

पूर्वी यूक्रेन में कई रूस समर्थकों से संपर्क बनाना चाह रहा है." वह पूर्वी यूक्रेन के हिंसाग्रस्त इलाके में सक्रिय गुटों से हथियार पाना चाहता था.

लेकिन संदिग्ध ने इतने बड़े पैमाने पर हथियार और विस्फोटक जुटाए कैसे, यह सवाल अभी बना हुआ है. वासिल ग्रिटसाक के मुताबिक, "फ्रांसीसी नागरिक ने कुछ लोगों को कई हजार यूरो देने की पेशकश भी की, वह यूक्रेन की नागरिकता लेना चाहता था ताकि जखीरे को आसानी से यूरोप पहुंचाया जा सके." यूक्रेन ने रूसी खुफिया एजेंसी पर फ्रांसीसी संदिग्ध की मदद करने का आरोप लगाया है. यूक्रेन और रूस के संबंध अप्रैल 2014 से लेकर अब तक खराब हैं. यूक्रेन से क्रीमिया के अलग होने के बाद भी पूर्वी यूक्रेन में तनाव की स्थिति बनी हुई है. कीव का आरोप है कि मॉस्को रूसी खुफिया एजेंसी पूर्वी यूक्रेन के विद्रोहियों को मदद लेकर देश की संप्रभुता से खेल रही है. मॉस्को इन आरोपों से इनकार करता रहा है.

फ्रांसीसी अधिकारियों ने फिलहाल संदिग्ध की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है, लेकिन माना जा रहा है कि संदिग्ध पूर्वी फ्रांस के एक कृषि सहकारी संगठन का कर्मचारी है. उसे जानने वाले किसान ने बताया कि संदिग्ध अक्सर यूक्रेन जाया करता था. संदिग्ध का नाम बताने से इनकार करने वाले किसान ने कहा, "वह हमसे कहता था कि उसकी गर्लफ्रेंड यूक्रेन में है और वह समय समय पर उससे मिलने वहां जाता है." दूसरे लोगों ने भी उसकी गिरफ्तारी पर हैरानी जताई है. सहकर्मी और दोस्तों के मुताबिक वह शानदार कर्मचारी और बेहद खुशमिजाज किस्म का शख्स है.

वहीं फ्रांस की पुलिस ने भी संदिग्ध के खिलाफ जांच शुरू कर दी है. उसका कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है. पेरिस में नवंबर 2015 में हुए आतंकवादी हमले के बाद से अब तक फ्रांस में इमरजेंसी लगी हुई है. फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद स्वीकार कर चुके हैं कि यूरो 2016 के दौरान सुरक्षा एक बड़ा मसला है. हालांकि उन्होंने यूरो 2016 को सफल बनाने के लिए हर संभव कदम उठाने का वादा किया है. 24 यूरोपीय देशों का यह फुटबॉल टूर्नामेंट 10 जून से शुरू हो रहा है.

ओएसजे/आईबी (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM