1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

फॉलोवरों के सहारे जंजीरें तोड़ते मॉडल

मॉडलिंग लंबे वक्त तक एक बंद दुनिया थी, जिसमें कुछ ही लोगों की पता नहीं कैसे एंट्री होती थी. लेकिन सोशल मीडिया ने बंद दुनिया को छिन्न भिन्न कर दिया है.

पेरिस शो के रैम्प पर उतरने से ठीक पहले, स्टेज के पीछे का नजारा. पुराने दौर में रैम्प वॉक से पहले मॉडलों को बैक स्टेज पर घंटों इंतजार करना पड़ता था. इस दौरान वे बोर भी होते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं है, आज हर कोई फोन के साथ होता है. हर चीज अपडेट होती रहती है. फ्रांसीसी मॉडल आडम अमो जानते हैं कि फेसबुक और इंस्टाग्राम के बिना मॉडलिंग फीकी है. हर वक्त अपना सोशल मीडिया अकाउंट अपडेट करते अमो कहते हैं, "आपको बहुत एक्टिव और हाई क्वालिटी कंटेंट पोस्ट करना चाहिए. यह अहम है कि आप अपने फैंस के साथ जुड़ें और जब कोई कमेंट करें तो उस पर प्रतिक्रिया भी दें. आप किसी की अनदेखी नहीं कर सकते. यह सब काफी काम है."

सबका एक साझा लक्ष्य भी है, ज्यादा से ज्यादा फैंस पाना. इससे मॉडलों की मार्केट वैल्यू बढ़ती है. आडम अमो इसका कारण बताते हैं, "ये ऐसा ही है, अगर दो मॉडल एक जैसे हैं और एक के लाखों फैंस हैं और दूसरे के हजारों, तो आप जानते हैं कि किसे लिया जाएगा."

मॉडलिंग जर्नलिस्ट लीजा बाउटेल्द भी इससे सहमत हैं, "मैं एक मॉडल मैगजीन के लिए काम करती हूं और हमारे दफ्तर में एक कास्टिंग एजेंसी भी है. कास्टिंग में मॉडल की सोशल नेटवर्क्स में मौजूदगी बड़ी भूमिका निभाती है. किसके कितने फॉलोवर हैं. क्या वह प्रभावशाली शख्सियत है. लेबल्स भी ऐसे ही दिखते हैं."

इंटरनेशनल मॉडलिंग एजेंसी "एलीट" ने भी इस बदलाव को स्वीकार किया है. बुकर्स, मॉडलों के प्रोफाइल की इंटरनेट कामयाबी की जानकारी भी अपने ग्राहकों को देते हैं. एलीट मैनेजमेंट वर्ल्डवाइड के प्रेसीडेंट विक मिहासी इसे बड़ा बदलाव करार देते हैं, "सोशल नेटवर्किंग आने से पहले मॉडल एक बड़े परिवार पर निर्भर रहते थे, तथाकथित फैशन सीन में प्रेस, फोटोग्राफर और फैशन डिजायनरों पर. और ये लोग तय करते थे कि वह अपनी दुनिया में मॉडल को आने देंगे या नहीं. इस बीच हालात बदल चुके हैं. अब ये मॉडलों के अपने हाथ में हैं और जनता में उनकी लोकप्रियता निर्णायक हो चुकी है."

और ऐसी ही सफलता ब्रिटेन के स्टीफन जेम्स की भी है. उनका एलीट के साथ करार है. अकेले इंस्टाग्राम पर जेम्स के 18 लाख फॉलोवर हैं. नाइजीरिया के 20 साल के डेविडसन ओबनेबो के सामने अब भी लंबी राह है. नवंबर 2016 में उन्होंने इंटरनेशनल एलीट मॉडल कॉन्टेस्ट जीता.

अब वह पहली बार फैशन के मेन सेंटर मिलान और पेरिस तक पहुंचे हैं. इटैलियन ब्रांड वर्साचे के लिए उन्होंने शो ओपन और क्लोज किया. ऐसा करना हर मॉडल के लिए सम्मान की बात होती है.

Frankreich, Karl Lagerfeld Modenschau im Grand Palais (Reuters/C. Platiau)

सुपर मॉडल कारा डेलेविन के पांच करोड़ फॉलोवर

कुछ समय से डेविडसन का भी एक इंस्टाग्राम अकाउंट है, इस पर उन्हें अभी काम करना है. अकाउंट में निजी वीडियो, तस्वीरों और काम काज का अच्छा मिक्स होना चाहिए. डेविडसन ओबेनेबो के मुताबिक, "आपके इंस्टाग्राम और फेसबुक पर भी आपका काम होना चाहिए, आपका किया हुआ काम. यह आपके ब्रांड के लिये सेलिंग प्वाइंट जैसा है. अगर डोनाटेला डेविडसन की तलाश में है तो सबसे तेज तरीके दो हैं. उसे या तो डेविडसन के फेसबुक पर जाना होगा या इंस्टाग्राम पर."

सोशल मीडिया के जरिये मॉडल्स काफी हद तक आजाद और प्रभावशाली हो चुके हैं. महिला मॉडलों के मामले में तो यह और भी बड़ी छलांग है. सुपर मॉडल कारा डेलेविन के पांच करोड़ फॉलोवर है तो केंडल जेनर के 10 करो़ड़ से ज्यादा. पुरुष मॉडल तो फिलहाल इतने फैंस का सपना ही देख सकते हैं.

(फैशन में कौन कितना कमाता है)

कात्या लिएर्ष/ओएसजे

 

DW.COM