1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फॉर्मूला 2014 कैलेंडर, रूस में रेस

सेबास्टियन फेटल के चैम्पियनशिप का चौका लगाने के बाद फॉर्मूला वन के अगले साल का कैलेंडर जारी हो गया है. रूस के सोची शहर को रेस कराने की जिम्मेदारी दी गई है, जबकि अमेरिका के न्यू जर्सी को कैलेंडर में जगह नहीं मिली.

इस साल की तरह अगले साल भी 19 रेसें होंगी और कुल मिला कर सबसे ज्यादा अंक बटोरने वाले ड्राइवर को चैंपियन घोषित किया जाएगा. 2014 में भारत के नोएडा की रेस पहले ही खारिज की जा चुकी है. सितंबर में कहा गया था कि न्यू जर्सी, मेक्सिको और कोरिया में रेस होगी लेकिन दिसंबर में आखिरी सूची जारी होने पर इन शहरों के नाम काट दिए गए हैं.

इसके साथ रूस के सोची शहर और ऑस्ट्रिया के श्पीलबर्ग में नई रेस कराने का फैसला किया गया है. सितंबर में जब अगले साल की रेसों का खाका पेश किया गया, तो उसमें 22 रेसों का जिक्र था. इससे फॉर्मूला वन की टीमें नाराज थीं और उनका कहना था कि दुनिया के अलग अलग हिस्सों में 22 बार रेस में हिस्सा लेना और इनकी तैयारियां बहुत मुश्किल हो जाएंगी. इसके बाद फॉर्मूला वन ने रेसों की संख्या घटा कर इसी साल की तरह 19 कर दी.

ओलंपिक के बाद फॉर्मूला वन

सबसे खास बात रूसी शहर सोची को शामिल करना है. सोची में फरवरी में सर्दियों के ओलंपिक खेल हो रहे हैं. इसके बाद इस शहर को फॉर्मूला वन के लिए चुना गया है. यहां 12 अक्टूबर, 2014 को रेस होगी. यह पहला मौका है, जब सोची में फर्राटा कारें दौड़ेंगी. इसके बाद अमेरिका के ऑस्टिन में रेस होगी लेकिन अमेरिका के न्यू जर्सी की प्रस्तावित रेस को काट दिया गया है. समझा जाता है कि खराब वित्तीय स्थिति की वजह से यह फैसला किया गया.

भारत में लगातार तीन साल तक फॉर्मूला रेस के बाद अगले साल उसे कैलेंडर से बाहर कर दिया गया. समझा जाता है कि रेस का वक्त बदलने के लिए ऐसा किया गया है. आम तौर पर नोएडा के बुद्ध सर्किट में अक्टूबर में रेस होती है, लेकिन अब इसे जून जुलाई में कराने की योजना है. संभावना है कि 2015 के कैलेंडर में भारत की वापसी हो जाए.

हमेशा की तरह 2014 की रेस भी ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में शुरू होगी और अबु धाबी में आखिरी रेस होगी.

2014 रेस कैलेंडर

मार्च 16: ऑस्ट्रेलिया (मेलबर्न)

मार्च 30: मलेशिया (सेपांग)

अप्रैल 20: चीन (शंघाई)

मई 11: स्पेन (बार्सिलोना)

मई 25: मोनाको

जून 8: कनाडा (मांट्रियल)

जून 22: ऑस्ट्रिया (श्पीलबर्ग)

जुलाई 6: ब्रिटेन (सिल्वरस्टोन)

जुलाई 20: जर्मनी (होकेन्सहाइम)

जुलाई 27: हंगरी (बुडापेस्ट)

अगस्त 24: बेल्जियम (श्पा)

सितंबर 7: इटली (मोन्जा)

सितंबर 21: सिंगापुर

अक्टूबर 5: जापान (सुजुका)

अक्टूबर 12: रूस (सोची)

नवंबर 2: अमेरिका (ऑस्टिन)

नवंबर 9: ब्राजील (इंटरलागोस)

नवंबर 23: अबु धाबी (यास मरीना)

एजेए/एनआर (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

WWW-Links