1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फॉर्मूला वन में फेटल ने चक दिए फट्टे

जर्मनी के सेबास्टियान फेटल दुनिया के सबसे कम उम्र के फॉर्मूला वन चैंपियन बन गए हैं. उन्होंने अबू धाबी ग्रां प्री जीतकर फॉर्मूला वन के इतिहास का नया पन्ना लिखा. रेड बुल टीम के इस ड्राइवर ने अलोंजो को हैरान कर दिया.

default

सेबास्टियान फेटल

23 साल और 106 दिन के फेटल रेस शुरू होने से पहले अलोंजो से 15 अंक पीछे थे. लेकिन अलोंजो ने इस रेस में बेहद खराब प्रदर्शन किया. वह सातवें नंबर पर रहे. फेटल ने उन्हें चार अंकों से पछाड़कर विश्व चैंपियनशिप पर कब्जा कर लिया.

शनिवार को क्वॉलिफाइंग राउंड जीतने के बाद फेटल ने आज शुरुआत पोल पोजीशन से की. हालांकि उन्हें 2008 के चैंपियन मैकलॉरेन के लुइस हैमिल्टन से कड़ा मुकाबला करना पड़ा.

NO FLASH Formel 1 Sebastian Vettel Red Bull Weltmeister

हैमिल्टन के नाम पर ही पिछला सबसे कम उम्र का चैंपियन होने का रिकॉर्ड भी था. यानी विश्व चैंपियन का खिताब जीतने के लिए फेटल को उनकी टक्कर और उम्र दोनों को हराना पड़ा. हैमिल्टन 2008 में 23 साल 307 दिन के थे.

फेटल के करियर की यह 10वीं जीत है. इसी सीजन में उन्होंने पांच ग्रां प्री जीतीं. हैमिल्टन ने अबू धाबी में दूसरा स्थान हासिल किया. हालांकि उन्हें इसके लिए काफी देर तक रेनॉ के रॉबर्ट कुबिका के पीछे दौड़ना पड़ा. उनकी ही टीम के गत चैंपियन जेनसन बटन भी उन्हें लगातार टक्कर देते रहे. लेकिन आखिर में वह दूसरे नंबर तक पहुंच ही गए.

मर्सीडीज के केके रोसबर्ग चौथे नंबर पर रहे. उनकी ही टीम के 41 वर्षीय मिषाएल शूमाकर को बीच रेस से ही हट जाना पड़ा क्योंकि पहले ही लैप में उनकी कार का एक्सिडेंट हो गया.

कुबिका पांचवें नंबर पर रहे. उनके साथी रेनॉ के विटाले पेत्रोव छठे नंबर पर और दो बार के विश्व चैंपियन स्पेन के फर्नांडो अलोंजो सातवें नंबर पर रहे.

फेटल ने कुल 256 अंक जुटाए. अलोंजो 252 अंकों के साथ दूसरे नंबर पर रहे. रेड बुल के ही ऑस्ट्रेलियाई मार्क वेबर 242 और मैकलॉरेन के हैमिल्टन 240 अंक जुटा पाए.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links