1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ब्लॉग

फैलती बीजेपी में अपराधियों की फफूंद

बीजेपी के नेता ने महिला एसपी को डांटा. बीजेपी नेता के बेटे ने एक युवती का अपहरण करने की कोशिश की. बीजेपी नेता की पत्नी ने ट्रक ड्राइवर को पीटा. ये कैसा सुशासन है? बीजेपी के सामने मिसाल पेश करने का मौका है.

हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष के बेटे ने चंडीगढ़ में जो हरकत की है, वह सभ्य समाज की मुंह पर कालिख है. चंडीगढ़ में शराब के नशे में टाटा सफारी में घूमते हुए एक युवती का पीछा करना. उसे डरते हुए भागते रहने के लिए मजबूर करना, यह बदतमीजी और ताकत के दंभ की चरम सीमा है. सुशासन का दावा करने वाली सरकारों के दौर में दो युवकों में इतना दुस्साहस कहां से आया.

इसके बाद जो कुछ भी हुआ वह और भी ज्यादा क्षुब्ध करने वाला है. युवती की शिकायत पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की. युवकों को गिरफ्तार किया और तुरंत जमानत दे दी. क्यों, क्योंकि एक आरोपी राजनीतिक रसूख वाला था. वह हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला का बेटा था.

बराला का बेटा दोबारा सिर्फ इस वजह है गिरफ्तार हो पाया क्योंकि युवती के पिता आईएएस अफसर हैं. सोचिए बराला एंड पार्टी किसी आम घर से आने वाली युवती और उसके परिवार का क्या हाल करते. उसके पिता की पार्टी केंद्र और देश के 15 राज्यों में सरकार चलाती है. भ्रष्टाचार का आरोप झेलने वाले विपक्षी नेता उस पार्टी से कांपते हैं. लेकिन अपने कानून की कितनी ही धज्जियां उड़ाएं, पार्टी के कान पर जूं तक नहीं रेंगेगी. क्योंकि, वह विस्तार चाहती है, पूरे भारत पर छा जाना चाहती है. इसके लिए वह हर तरह के नैतिक मूल्य की तिलाजंलि देने को आतुर है.

अब ये देखना जरूरी है कि बात बात पर ट्वीट करने वाले बीजेपी के आला नेता समाज को क्या संदेश देते हैं. क्या वे इस घटना को विपक्षी चाल कहेंगे या फिर एक शासन चलाने वाली एक जिम्मेदार पार्टी की तरह नजीर पेश करेंगे.

(कितने राज्यों में है बीजेपी की सरकार)

 

DW.COM

संबंधित सामग्री