1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

फेसबुक के फर्जी लाइक

बड़े बड़े सितारे, कारोबारी और यहां तक कि अमेरिका का विदेश मंत्रालय भी पैसे देकर सोशल मीडिया पर अपनी लोकप्रियता बढ़ा रहा है. ये सब फेसबुक और ट्विटर पर फर्जी लाइक और फॉलोअर खरीद रहे हैं.

इनके चक्कर में दुनिया भर में "क्लिक फार्म" बन गए हैं, जो दिन भर बैठ कर माउस क्लिक करते रहते हैं. यूट्यूब के वीडियो के व्यू बढ़ाते हैं और फेसबुक के लाइक बढ़ाते हैं, शेयर करते रहते हैं. 10 साल पहले जब फेसबुक बना, तो लोगों ने अपने वित्तीय फायदों के लिए सोशल नेटवर्किंग का इस्तेमाल शुरू किया. नए दोस्त बनाने शुरू किए और कारोबारी फायदे को देखा.

फर्जी लाइक का धंधा

लेकिन अमेरिकी समाचार एजेंसी एपी का कहना है कि उसने इस विषय पर शोध किया है और उसे पता चला है कि कई कंपनियां फर्जीबाड़े में लगी हैं, वे नकली क्लिक खरीद रही हैं. ऑनलाइन रिकॉर्ड, इंटरव्यू और विश्लेषण से पता चलता है कि सोशल मीडिया पर इस तरह का काम करने से करोड़ों की कमाई भी होती है.

एक क्लिक का आधा सेंट भी कमाई का बड़ा जरिया बन सकता है. इनके तार लिंक्डइन से लेकर दूसरी जगहों तक फैले हैं और इंटरनेट की आभासी दुनिया में ज्यादा क्लिक या बड़े नेटवर्क वाले लोगों को बेहतर मौके मिलने की संभावना रहती है. सियोक्लैरिटी के सीईओ मितुल गांधी कहते हैं, "जब भी कभी क्लिक के साथ पैसे का मामला जुड़ा हो, तो लोग उस तरफ बढ़ जाते हैं." इतालवी सुरक्षा रिसर्चर और ब्लॉगर आंद्रेया स्ट्रोपा और कार्ला डीमिचेली का दावा है कि 2013 में ट्विटर के फर्जी फॉलोअर चार से 36 करोड़ डॉलर का कारोबार प्रभावित कर सकते हैं. इसी तरह फेसबुक की गतिविधियों से 20 करोड़ डॉलर प्रभावित हो सकता है.

यही वजह है कि कई कंपनियां अपनी टीम के साथ फर्जी क्लिक की खरीद बिक्री के धंधे में लगी हैं. इन पर लगाम कसने वाले जब भी एक तरीके को नाकाम करते हैं, कोई दूसरा तरीका उभर जाता है. यूट्यूब ने कई ऐसे वीडियो को हटा दिया है, जिन पर फर्जी तरीके से बहुत ज्यादा व्यू दिखाया गया था. यूट्यूब का मालिक यानी गूगल भी उन लोगों से निपटने की कोशिश कर रहा है, जो फर्जी क्लिक के धंधों में लगे हैं. फेसबुक की ताजा तिमाही रिपोर्ट में कहा गया है कि 1.18 अरब यूजर में से 1.41 करोड़ फर्जी हैं.

कैसे लगे लगाम

ट्विटर के जिम प्रोसर का कहना है, "आखिर में, उनके अकाउंट सस्पेंड कर दिए जाते हैं. और इसकी वजह से लोग फॉलोअर का नुकसान झेलते हैं." लिंक्डइन के प्रवक्ता डो मैडे का कहना है कि कनेक्शन 'खरीदने' से सदस्य के अनुभव वाला खाना कमजोर होता है. इससे समझौते का उल्लंघन भी होता है और खाता बंद किया जा सकता है. गूगल की प्रवक्ता आंद्रेया फाविले कहती हैं कि गूगल और यूट्यूब "उन खराब एक्टरों के खिलाफ कार्रवाई करता है, जो उनके सिस्टम को प्रभावित करने की कोशिश करते हैं."

अगला पेज...

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री