1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फेरी दुर्घटना में 290 लापता

दक्षिण कोरिया के दक्षिणी द्वीप के पास यात्री फेरी डूबी. फेरी में 477 लोग सवार थे, जिनमें अधिकतर स्कूली बच्चे थे. दो की मौत हुई और 290 लोग लापता हैं.

रॉयटर्स समाचार एजेंसी के मुताबिक अधिकारियों ने 164 लोगों को बचा लिया गया है. दक्षिण कोरियाई समाचार एजेंसी योनहैप ने सरकारी अधिकारियों के हवाले से कहा है कि करीब 290 लोग अभी भी लापता हैं.

आशंका है कि कई शायद फेरी में ही फंसे रहे गए. क्योंकि 477 लोगों से भरी ये फेरी दो घंटे के अंदर ही पलट गई. फेरी में 324 स्कूली बच्चे और 14 शिक्षक थे जो हॉलीडे रिसॉर्ट जेजू पर जा रहे थे. अधिकारिक रूप से दो लोगों, एक युवक और चालक दल की एक महिला के मारे जाने की पुष्टि की गई है.

कई लोगों को मछली मार नौकाओं और दूसरे जहाजों ने बचाया. तेजी से नौसेना के जहाज और हेलीकॉप्टर भी घटनास्थल तक पहुंचे. दक्षिण कोरियाई नौसेना के एक अधिकारी ने बताया, "पानी में इतनी मिट्टी है कि कुछ दिखाई नहीं दे रहा. इंचेओन से चली 6,825 टन भारी फेरी दक्षिण के बियुंगपुंग द्वीप से 20 किलोमीटर दूर डूब गई.

दुर्घटना की वजह साफ तौर पर पता नहीं चल सकी है. हालांकि बचे हुए यात्रियों ने जानकारी दी कि फेरी अचानक से रुक गई. बाल बाल बचे यात्री किम सोंग मुक ने बताया, "बहुत जोर की आवाज हुई और फेरी एकदम से रुक गई और एक तरफ झुकने लगी. लोग ऊपर जाने की कोशिश कर रहे थे लेकिन यह मुश्किल था क्योंकि डेक भी झुक रहा था." अब फेरी का सिर्फ छोटा सा हिस्सा ही पानी के बाहर दिख रहा है.

पानी का तापमान 12.6 डिग्री सेल्सियस है. फेरी पर चालक दल के 29 सदस्य थे और इसमें डेढ़ सौ कारें भी थीं. एक छात्र ने बताया कि जहाज अचानक से रुक गया, "हम गिर गए और मेरे कुछ दोस्तों को चोट आई. हम सब पानी में कूद गए फिर हमें एक नाव ने बचा लिया."

उधर स्कूल में हाल बुरा है. परिजनों को नहीं मालूम कि उनके बच्चे किस हाल में हैं.

एएम/ओएसजे (एएफपी, डीपीए, रॉयटर्स)