1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फेटल को जीत में मिले ताने

तीन बार फार्मूला वन जीत चुके सेबास्टियान फेटल के लिए इटली के मोंजा का पोडियम नया नहीं है. इस बार उन्होंने फरारी के फर्नांडो अलोंसो को मात दी. लेकिन इस जीत के लिए उनको तालियों की जगह ताने मिले.

26 साल के जर्मन ड्राइवर फेटल दो बार पहले भी इटली में जीत चुके हैं. मिलान के रेस ट्रैक पर फरारी के दीवानों की कोई कमी नहीं. वे सिर्फ फरारी और फरारी की जीत ही पसंद करते हैं. और बाकी कारों के आगे आने पर उनकी बाकायदा हूटिंग भी करते हैं. रेडबुल के सेबास्टियान फेटल ने जीत के बाद कहा, "मैंने रेस के दौरान एक लैप में अपने माइक्रोफोन में कहा कि लोग जितना ज्यादा हमें हूट करेंगे उतना हमारे लिए अच्छा है. यह सामान्य है. मैं लोगों की ईमानदारी के लिए उन पर आरोप नहीं लगाता. मुझे लगता है कि फरारी के लिए प्रेम उनकी रग रग में बसा है. यह उनके लिए कुछ खास है."

फेटल 2008 में पहली बार इटली में जीते. उस समय तो उनका खूब जोर शोर से स्वागत हुआ क्योंकि वह इटली की टोरो रोसो टीम में थे. ट्रैक पर मौजूद फैन्स भले ही फेटल को हूट कर रहे थे लेकिन वह अब इस सीजन की करीब आधी रेस जीत चुके हैं और उनके लगातार चौथे टाइटल जीतने की संभावना पक्की होती जा रही है. दूसरे नंबर पर आए फर्नांडो अलोंजो फेटल के अंकों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा पाए हैं, वे फेटल से 53 अंक पीछे हैं. रेस के बाद उन्होंने कहा, "हर बार जब मैं एयरपोर्ट, होटल, घर, या इटली में कहीं भी जाता हूं तो मुझे भारी समर्थन मिलता है. वे मुझे खूब प्यार करते हैं और मेरी टीम को भी."

रविवार की रेस कोई थ्रिलर नहीं थी. कैलेंडर का सबसे तेज रेसिंग ट्रैक सीजन का सबसे फीका राउंड साबित हुआ. फेटल की जीत ने अब लगभग तय कर दिया है कि चैंपियनशिप किसके नाम होगी और इसी कारण इस रेस का रोमांच भी खत्म हो गया है. रेड बुल के प्रमुख क्रिस्टियान होर्नर ने कहा, "मुझे लगता है कि रेस में सभी फरारी के साथ थे, और मोंजा में फरारी को हराने वाले को कभी तालियां नहीं मिलेंगी. सेबास्टियान के फर्नांडो अलोंसो को हराने की कोई बड़ी प्रतिक्रिया होनी भी नहीं थी."

रेड बुल के दूसरे चालक मार्क वेबर पहली बार मोंजा में तीसरे नंबर पर आए. चैम्पियनशिप का रुख देख ड्राइवरों के सुर भी बदलने लगे हैं. अलोंजो ने कहा, "मुझे लगता है कि हमें चैंपियनशिप के बारे में सच्चाई को देखना होगा. अंतर अब बहुत ज्यादा है. अब ज्यादा रेस बची नहीं हैं. और हमारे पास इतनी स्पीड भी नहीं है कि हम हर रेस जीतें. उम्मीद करते हैं कि कम से कम ये अंतर तो हम पाटने की कोशिश करें. हमें किस्मत चाहिए या तो सेबास्टियान फेटल ज्यादा विराम लें या फिर कोई और तरीका. हमारे जो अंक हैं उसमें यह मुश्किल है. बिलकुल पिछले साल जैसा."

अब जो सर्किट बचे हैं, उनमें भी पहले रेड बुल को फायदा ही हुआ है. सिंगापुर, जापान, दक्षिण कोरिया और भारत, चारों जगह पिछले सीजन में फेटल जीते थे. हालांकि अभी मुकाबले का जोश कमजोर नहीं हुआ है. अलोंसो ने कहा कि वह अपनी कार से अधिकतम फायदा उठाने की कोशिश करेंगे. उन्होंने ये मानने से भी इनकार किया कि आंकड़ों के आधार पर उनकी हालत अच्छी नहीं. "रास्ता लंबा है. और हम आखिरी रेस तक बेहतर प्रदर्शन की कोशिश करेंगे. जितने संभव होंगे अंक लेंगे. और फिर ब्राजील में देखेंगे कि उनकी तुलना में हमारे कितने अंक हैं."

एएम/एनआर (डीपीए, एएफपी)

DW.COM