1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फेटल की राह में वेबर कुर्बान

रेड बुल के ड्राइवर सेबास्टियान फेटल लगातार तीसरी बार फॉर्मूला वन चैंपियन बनने के करीब हैं. फरारी के अलोंसो पिछड़ते जा रहे हैं, लेकिन अबू धाबी की रेस में दवाब अलोंसो से ज्यादा फेटल के जोड़ीदार वेबर पर होगा.

ऑस्ट्रेलिया के मार्क वेबर चैंपियनशिप की दौड़ में पीछे जरूर हैं लेकिन बाहर नहीं हुए. 167 अंकों के साथ वह चौथे स्थान पर हैं, लेकिन अब वेबर पर दवाब है कि वह अपने साथी ड्राइवर सेबास्टियान फेटल की मदद करें. रेड बुल को उम्मीद है कि वेबर फर्नांडो अलोंसो को आगे नहीं निकलने देंगे और खुद को भी फेटल के पीछे रखेंगे. इसे टीम भावना कहा जा रहा है.

हालांकि रेड बुल ने साफ किया है कि वह ऐसा करने के लिए वेबर को निर्देश नहीं देगी. टीम प्रमुख क्रिस्टियान हॉर्नर के मुताबिक उन्हें उम्मीद है कि वेबर टीम के खिलाड़ी होने की मनोवृत्ति का बेहतरीन इस्तेमाल करेंगे. हॉर्नर ने कहा, "मुझे यकीन है कि टीम प्लेयर होने के नाते आप टीम की मदद करने के लिए जो कुछ जरूरी होता है, वह करते हैं."

Formel 1 Südkorea Siegerehrung

अलोंसो को रोकने की जिम्मेदारी वेबर पर

टीम प्रमुख के मुताबिक वेबर के चैंपियनशिप जीतने की संभावनाएं अब बहुत क्षीण हो गई हैं, "गणित के हिसाब से उनके लिए (वेबर) चैंपियनशिप जीतना बहुत कठिन हो गया है और वह एक चतुर व्यक्ति हैं. वह टीम का बहुत अहम हिस्सा हैं और मुझे पूरा यकीन है कि वह चैंपियनशिप जीतने का उद्देश्य पूरा करने में पूरी मदद करेंगे."

रेड बुल से जब यह पूछा गया कि इस बारे में वेबर को कोई खास निर्देश दिया गया है तो हॉर्नर ने कहा, "आप बहुत सारे मसलों पर बात कर सकते हैं लेकिन कभी कभी ऐसे मामले भी आ जाते हैं, जिन पर आप बात नहीं करते हैं."

25 साल के जर्मन ड्राइवर फेटल लगातार तीसरी बार फॉर्मूला वन चैंपियशिप जीतने के करीब हैं. वह अपने प्रतिद्वंद्वी अलोंसो से 13 अंक आगे हैं. अगर फेटल जीते तो वह फॉर्मूला वन के इतिहास में सबसे कम उम्र में चैंपियनशिप की हैट्रिक बनाने वाले पहले खिलाड़ी होंगे. फेटल के फिलहाल 240 अंक हैं. आगे अबू धाबी, अमेरिका और ब्राजील की रेस है.

हॉर्नर ने अबू धाबी की रेस की रणनीति का भी जिक्र कर दिया है. उनके मुताबिक फेटल और वेबर रेस में शुरुआत से अंत तक आगे रहने की कोशिश करेंगे. अलोंसो आगे नहीं निकल पाए तो जीत कैसे पाएंगे. शुक्रवार को अभ्यास रेस में ऐसा ही हुआ भी. फेटल पहले और वेबर दूसरे नंबर पर रहे. अलोंसो पांचवे स्थान पर रहे.

Vettel Formel 1 in Noida Indien

इतिहास रचने के करीब फेटल

वैसे फॉर्मूला वन में यह पहला मौका नहीं है जब चैंपिशनशिप जीताने के लिए टीम के दूसरे चालक पर पीछे हटने का दबाव हो. सात बार फॉर्मूला वन चैंपियन रहे मिषाएल शूमाकर की इस ढंग से रुबेन्स बारिकेलो ने खूब मदद की. 2000 से 2005 तक वह शूमाकर के पीछे रहे. 2002 और 2004 में तो उन्हें शूमाकर की खातिर अपनी जीतें कुर्बान करनी पड़ीं. 2002 में ऑस्ट्रियन ग्रां प्री जीतने के बाद शूमाकर ने जीत के बाद अपनी ट्रॉफी बारिकेलो को दे दी. शूमी को अहसास था कि उनकी जीत में साथी का कितना बड़ा योगदान है. फरारी की इस रणनीति से फॉर्मूला वन प्रबंधन इतना झल्लाया कि उसने 2003 में ड्राइवरों को निर्देश देने की टीमों की परंपरा पर पाबंदी लगा दी. हालांकि 2010 में इस प्रतिबंध को हटा दिया गया.

मैक्लारेन के जेन्सन बटन ने जब चैंपियनशिप जीती तो उन्हीं के साथ लुईस हैमिल्टन को अपनी रफ्तार थामनी पड़ी. फॉर्मूला वन में अक्सर जब टीम का एक ड्राइवर चैंपियनशिप जीतने के करीब पहुंच जाता है तो दूसरा उसकी मदद करने लगता है. दूसरे की जिम्मेदारी बन जाती है कि वह बाकी ड्राइवरों के रास्ते में अड़ंगा डाले. इसी टीम भावना की वजह से कभी कभार टीमों में फूट भी पड़ती है. अफवाहें हैं कि ऐसी ही कुछ बातों से नाराज होकर लुईस हैमिल्टन मैक्लारेन छोड़कर अगले सत्र से मर्सिडीज के पास जा रहे हैं.

ओएसजे/एएम (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links