1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फुटबॉल में हिंसा पर 78 लोग हिरासत में

बुधवार को रूस में फुटबॉल मैच के दौरान दर्शकों की भीड़ आपस में ही गुंथ गई और फिर वहां जबरदस्त तोड़फोड़ और हंगामा हुआ. पुलिस ने इस सिलसिले में 78 लोगों को हिरासत में लिया है.

रूसी कप के लिए शिनिक यारोस्लाव और स्पार्टाक मॉस्को के मुकाबले में हाफटाइम के पहले स्पार्टाक की टीम के समर्थकों ने रोशनी और धुएं वाले बम फेंके . ब्रेक के कुछ ही मिनटों बाद स्थिति और ज्यादा तब बिगड़ गई जब वहां मौजूद दर्शक दंगा निरोधक पुलिस से उलझ गए और सीटें उखाड़ कर उन्हें मैदान में फेंकने लगे. वहां से जो तस्वीरें आई हैं उनमें एक दर्शक नाजी बैनर लिए हुए भी दिख रहा है.

यारोस्लाव इलाके के गृह मंत्रालय के प्रमुख निकोलाई त्रिफोनोव ने इस बारे में जानकारी दी. उन्होंने पत्रकारों से कहा, "हम मानते हैं कि यह एक सोची समझी हरकत थी. हमें शिनिक समर्थकों की तरफ से एक भी हरकत की जानकारी नहीं मिली है, भड़काने वाली सारी हरकतें स्पार्टाक के समर्थकों ने की. मैच के बाद हमने 78 लोगों को हिरासत में लिया है." यारोस्लाव की पुलिस ने तोड़फोड़ के आरोप में जांच शुरू कर दी है. अगर इस मामले में आरोपों की पुष्टि हो जाती है तो 3 साल तक के जेल की सजा हो सकती है.

मैच के दौरान हंगामा बढ़ने पर 53वें मिनट में रेफरी सर्के कोस्टेविक ने खेल रोका और खिलाड़ियों को ड्रेसिंग रूम में जाने के लिए कहा. इसके बाद पुलिस पानी की तेज बौछार फेंकने वाले ट्रकों को मैदान में ले कर आई और तोड़ फोड़ कर रहे दर्शकों को वहां से भगाने में जुट गई. करीब 20 मिनट के बाद खेल दोबारा शुरू हुआ. खेल में स्पार्टाक शून्य के मुकाबले 1 गोल से जीत गई. यह गोल दमित्री कोमारोव के पेनल्टी के जरिए हुआ.

रूस में खेलों के अनुशासन समिति ने इस मामले पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार को अलग से एक बैठक बुलाई है. रूस के खेल मंत्री विताली मुक्तो ने कहा है कि इस मामले में हुई गड़बड़ियों के लिए खेल प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए. अनुशासन समिति की बैठक में इसी बात पर चर्चा होगी.

यूरोस्लाव में हंगामे से कुछ ही घंटे पहले सीएसकेए मॉस्को को चैम्पियंस लीग के अगले मैच के लिए अपने स्टेडियम का कुछ हिस्सा बंद करने को कहा गया. पिछले हफ्ते मैनचेस्टर सिटी और सीएसकेए मॉस्को के मुकाबले के दौरान खिलाड़ियों को दर्शकों की नस्लभेदी गालियां भी सुननी पड़ीं थीं. बीते दिनों में फुटबॉल में हिंसा की कुछ घटनाएं दूसी जगहों पर भी हुई हैं पर राष्ट्रपति पुतिन के लिए इस तरह के मामले माथे पर चिंता की लकीरें खींचने वाले हो सकते हैं. रूस देश के दक्षिण में काकेशस पहाड़ों की तलहटी में बसे सोची में अगले साल के विंटर ओलंपिक की तैयारियों में बड़ी जोर शोर से जुटा है. इसके अलावा 2018 में उसे फुटबॉल के वर्ल्ड कप का भी आयोजन करना है.

एनआर/एमजे (रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री