फुटबॉल में उपद्रव के लिए भारी जुर्माना | खेल | DW | 25.01.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फुटबॉल में उपद्रव के लिए भारी जुर्माना

जर्मन फुटबॉल जगत में हिंसक होते फैंस को काबू में पाने पर बहस चल रही है तो बुंडेसलीगा के क्लब हनोवर ने अदालत की मदद से दो फैंस से 8,500 यूरो वसूलने में सफलता पाई है.

फुटबॉल मैचों में हिंसा और उपद्रव के मामले बढ़ रहे हैं. स्टेडियम में शांति बहाली की कोशिशें होती हैं तो उग्र फैन स्टेडियम के बाहर हिंसा और मारपीट करते हैं. पिछले दिनों कोलोन और शाल्के के फैंस के बीच मारपीट के बाद डॉर्टमुंड ने शाल्के के साथ होने वाले मैच में टिकटों की संख्या घटा दी ताकि स्टेडियम में ज्यादा भीड़ न हो.

उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए पुलिस की लगातार बढ़ती जरूरतों के कारण अधिकारी फुटबॉल क्लबों से खुद सुरक्षा का इंतजाम करने और खर्च उठाने की मांग करते रहे हैं. हिंसक फैंस को अलग थलग करने की मांग उठती रही है. अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल संगठन भी हिंसक वारदात में भाग लेने वाले फैंस के क्लबों को दंड देने लगे हैं.

उपद्रवी फैंस पर काबू पाने के सिलसिले में हनोवर को बड़ी सफलता मिली है. उसने दो फैंस पर मुकदमा कर उनसे 8,500 यूरो की राशि वसूली है, जिनकी वजह से यूरोपीय फुटबॉल यूनियन ने उस पर 15,000 यूरो का जुर्माना किया था. हनोवर के प्रांतीय अदालत ने इस फैसले की पुष्टि करते हुए कहा कि दोनों पक्षों के बीच समझौते के तहत दोनों अभियुक्त हनोवर को यह राशि चुका रहे हैं.

Hooligans

एक फैन को हनोवर को 6,000 यूरो चुकाने पड़े.

यूरोपीय फुटबॉल यूनियन यूएफा ने डेनमार्क के कोपेनहेगेन में नवंबर 2011 में वहां के क्लब के साथ हुए मैच के बाद की घटनाओं के लिए हनोवर पर 15,000 यूरो का जुर्माना किया था. क्लब यह राशि पूरी की पूरी अभियुक्तों से वसूलना चाहता था.

एक फैन ने स्टेडियम के एक हिस्से में पटाखे वाली फुलझड़ियां जलाईं थीं और एक को तो मैदान पर फेंक दिया था. उसे हनोवर को 6,000 यूरो चुकाने पड़े. दूसरा फैन 22 वर्षीय डोमिनिक इस मैच के दौरान दौड़ कर मैदान पर चला गया था. उसके साथ हनोवर की 2,500 यूरो के जुर्माने पर सहमति हुई.

दोनों फैंस को कोपेनहेगेन में ही गिरफ्तार कर लिया गया था. पटाखे जलाने के वीडियो सबूत थे. जज पेटर बोर्ट ने बचाव पक्ष के वकील की यह दलील नहीं मानी कि किसी और ने पटाखा अभियुक्त को दे दिया था. अदालत में स्टेडियम का वीडियो दिखाया गया.

अदालत के इस फैसले के बाद दूसरे मैचों में उपद्रव करने वाले फैंस के लिए मुसीबत शुरू हो सकती है. जर्मनी के दूसरे क्लब भी सुरक्षा पर होने वाले खर्च में उपद्रवी फैंस को हिस्सा लेने पर मजबूर कर सकते हैं.

एमजे/एजेए (एसआईडी)

DW.COM

संबंधित सामग्री