फुटबॉल के सबसे बड़े उत्सव के लिए तैयार मॉस्को | खेल | DW | 14.06.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फुटबॉल के सबसे बड़े उत्सव के लिए तैयार मॉस्को

रूस की राजधानी मॉस्को फुटबॉल के सबसे बड़े उत्सव फीफा वर्ल्ड कप के लिए तैयार है. सोवियत संघ के जमाने में विदेशियों की पहुंच से दूर रहा यह देश अब पश्चिमी देशों के फैन्स के स्वागत के लिए तैयार है.

इस साल का फीफा वर्ल्ड कप ऐसे समय में हो रहा है जब यूक्रेन और सीरिया के मु्द्दों को लेकर रूस की पश्चिमी देशों के साथ रिश्तों में तल्खी आ गई है. गुरुवार से शुरू हो रहे फीफा वर्ल्ड कप का शुरुआती मुकाबला मेजबान देश रूस और सऊदी अरब के बीच हो रहा है जिसे देखने के लिए मॉस्को के लुजनिकि स्टेडियम में करीब 80 हजार फैन्स मौजूद रहेंगे. 11 जुलाई तक चलने वाले इस फुटबॉल फेस्टिवल का आयोजन 11 अलग-अलग शहरों में होना है.

मॉस्को में भारी संख्या में फैन्स पहुंच चुके हैं और यहां की गलियों, रेस्तरां और बार आदि में इंग्लिश व स्पेनिश में हरेक की जुबां पर फुटबॉल वर्ल्ड कप का जिक्र है. स्थानीय मॉस्कोवासी भी लोगों का स्वागत करने में खुशी महसूस कर रहे हैं औऱ उनके लिए यह गर्व करने का मौका है.

शहर के मशहूर जॉर्जियन रेस्तरां खचापुरी में किसी शख्स को फ्रेंच लहजे में वेट्रेस से बात करते सुना जा सकता है जिसमें वह पूछता है, "क्या आप इंग्लिश बोल सकती हैं?" इस पर वेट्रेस मुस्कुरा कर नहीं में सिर हिलाकर जवाब देती है. इस पर फ्रेंच शख्स मजाकिया लहजे में कहता है, "आप खूबसूरत हैं. देखिए, आप इंग्लिश समझ सकती हैं". वेट्रेस का कहना है कि उसे वाकई इस बात की खुशी है कि इतनी बड़ी संख्या में विदेशी फैन्स ने रूस की धरती पर कदम रखा. ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है.

भले ही पश्चिमी देशों और रूस के रिश्तों में कड़वाहट आई हो, लेकिन पश्चिम की संस्कृति का मॉस्को में जमकर असर दिखता है. रूस के नौजवान फिल्मों, कपड़ों और खानों में पश्चिम को काफी फॉलो करते हैं. यही वजह है कि मॉस्को के रेड स्क्वॉयर स्थित मैक्डॉनल्ड पर खासी भीड़ देखी जा सकती है.

वर्ल्ड कप के मुकाबलों को देखने के लिए सबसे ज्यादा टिकटें अमेरिकी फैन्स ने खरीदी है. आंकड़े बताते हैं कि करीब एक लाख टिकटों की खरीद अकेले अमेरिका फैन्स ने की है. यह तब है जब अमेरिकी सरकार ने भीड़ को देखते हुए पर्यटकों को रूस जाने के बारे में दोबारा सोचने को कहा था. फैन्स के बीच जबरदस्त क्रेज को देखते हुए रूस ने भी उदारता दिखाई है और टिकट खरीद चुके विदेशी फैन्स के लिए वीजा की बाध्यता खत्म कर दी है. इससे फैन्स में खुशी दोगुनी हो गई है.

मॉस्को के रेड स्क्वॉयर स्थित बार में इंग्लिश फैन्स का ग्रुप बातचीत करते सुना जा सकता है जिसमें वे कह रहे हैं कि अब वे बिना वीजा के ही रूस की सैर कर सकेंगे. इस बार की दीवारों पर पश्चिमी देशों की फ्रांक सिन्टारा, मिक जैगर, और यहां तक की बिल गेट्स जैसी हस्तियों की हास्यास्पद तस्वीरों को देखा जा सकता है. बार टेंडर अपनी टूटी-फूटी अंग्रेजी में इन विदेशी मेहमानों को बीयर के बारे में बताने की कोशिश करता है. पश्चिमी देशों के फैन्स के आने से शहर के बार और रेस्तरां में अमेरिका के हिट गानों को बजाया जा रहा है.

12 जून को रूस दिवस के मौके पर पूरे देश में छुट्टी रही और आतिशबाजी के साथ इसे सेलिब्रेट किया गया. अब मॉस्को प्रशासन ने कंपनी मालिकों से कहा है कि वे फीफा वर्ल्ड कप के पहले दिन यानि गुरुवार को भी छुट्टी दे दें जिससे स्थानीय लोग फुटबॉल के महा-उत्सव के आगाज में शामिल हो सकें.

वीसी/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री