1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फुटबॉल का खिताब शर्मीले या शोमैन को

अर्जेंटीना के जादुई खिलाड़ी लियोनेल मेसी लगातार चौथी बार फीफा का साल का सर्वश्रेष्ट फुटबॉलर बन सकते हैं. यदि ऐसा होता है तो वे पहले खिलाड़ी होंगे जिसने लगातार चार बार यह सम्मान हासिल किया.

प्रसिद्ध बलोन डे'ओर पुरस्कार का फैसला मतदान के जरिए होता है जिसमें राष्ट्रीय टीमों के कोच और कप्तान के अलावा पत्रकार वोट डालते हैं. इस साल के नतीजे की घोषणा सोमवार को ज्यूरिष में फीफा के वार्षिक समारोह में होगी.

क्लब फुटबॉल में बार्सिलोना के लिए खेलने वाले मेसी इस बार भी पुरस्कार के प्रबल दावेदार हैं. यह सम्मान एक बार फिर इस समय विश्व का प्रमुख फुटबॉल खिलाड़ी और इतिहास के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक होने के उनके दावे को पुष्ट करेगा. वैसे उनका प्रदर्शन पहले ही इसकी नींव तैयार कर चुका है. एक साल में 91 गोल करने का विश्व रिकॉर्ड और स्पेन के लीग में एक सीजन में 50 गोल का लीग रिकॉर्ड. साल में सबसे ज्यादा गोल करने का रिकॉर्ड अब तक 1972 में 85 गोलों के साथ जर्मनी के गैर्ड मुलर का था.

हालांकि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर के चुनाव के लिए हुए मतदानों में चौंकाउ नतीजे भी निकले हैं. हालांकि यह संभव नहीं दिखता, लेकिन पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो के पक्ष में भी फैसला हो सकता है, जिन्होंने अपनी रियाल मैड्रिड टीम को पिछले सीजन में रिकॉर्ड 100 प्वाइंट के साथ ला लीगा टाइटल दिलावाया. जब से रोनाल्डो रिकॉर्ड रकम के लिए मैनचेस्टर छोड़कर 2009 में रियाल आए हैं, दोनों फुटबॉलरों की प्रतिद्वंद्विता ने स्पेनी फुटबॉल को गरमाए रखा है.

यह शर्मीले शख्स और शोमैन की प्रतिद्वंद्विता है, हालांकि पिछले सालों में शर्मीला फुटबॉलर शोमैन से एक कदम आगे रहा है. निश्चित तौर पर यह शर्मीला शख्स मेसी हैं, जो रोशनी की चकाचौंध में असहज दिखते हैं, लेकिन जब उन्हें बोलना पड़ता है तो वे विनीत और आदरभाव से भरे दिखते हैं. रोनाल्डो उनके ठीक उलट हैं. एक सम्पूर्ण शोमैन जो अपनी प्रतिभा और संकल्प के साथ साथ अपने दंभ का भी प्रदर्शन करता है. विरोधी फैंस ने अक्सर स्टेडियम में उनके सामने मेसी के नारे लगाकर उन्हें विचलित करने की कोशिश की है.

चैंपियंस लीग में डायनेमो जागरेब के खिलाफ मैच में जब ऐसा हुआ तो रोनाल्डो ने बदनाम हुई प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा, "उन्हें मुझसे डाह है क्योंकि मैं खूबसूरत, धनी और महान खिलाड़ी हूं." रोनाल्डो 2008 में बलोन डे'ओर जीतने के छह महीने बाद मैड्रिड आए थे, लेकिन उसके बाद से लगातार यह पुरस्कार मेसी को जाता रहा है और वे खामोशी में दर्द सहते रहे हैं. स्पेनी मीडिया तो यहां तक कहने लगा है कि मेसी के साए से बचने के लिए वे सीजन के अंत में फिर से इंगलिश लीग में वापस होने का मन बना चुके हैं.

एक साल पहले मेस्सी को 47.88 फीसदी वोट मिले थे, जबकि रोनाल्डो को 21.6 फीसदी वोट मिले. पुर्तगाली शोमैन इस बार भी मेसी की जीत का आधार बना रहे हैं. पिछले हफ्ते उन्होंने कहा, "यदि मैं बलोन डे'ओर नहीं जीतता हूं तो कुछ नहीं होगा. मैं इसे जीतना चाहूंगा लेकिन यदि मैं नहीं जीतता हूं तो जिंदगी खत्म नहीं हो जाएगी. मैं जैसा हूं वैसा ही रहूंगा." यह भी मुमकिन है कि रोनाल्डो इस बार दूसरे नंबर पर भी न आएं. फीफा की लिस्ट पर तीसरे उम्मीदवार बार्सिलोना के ही आंद्रेस इनिएस्ता हैं. उन्हें पिछले साल यूरो 2012 के दौरान सर्वश्रेष्ट खिलाड़ी चुना गया था.

एमजे/एनआर (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री