1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फुटबॉल का कर्ज उतारना चाहते हैं बाइचुंग भूटिया

भारतीय फुटबाल टीम के कप्तान बाइचुंग भूटिया मानते हैं कि अपने लगभग दो दशक लंबे करियर में उन्होंने फुटबॉल से बहुत कुछ हासिल किया है. अब बदले में इस खेल को कुछ देने का समय आ गया है. यानी वह फुटबाल का कर्ज उतारना चाहते हैं.

default

बाइचुंग भूटिया

इसी सोच को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने देश के विभिन्न शहरों में फुटबॉल स्कूल खोलने का फैसला किया है जहां उभरते खिलाड़ियों की पहचान कर उनको फुटबॉल के गुर सिखाए जाएंगे. पुर्तगाल की कार्लोस क्विरोज फुटबॉल अकादमी के सहयोग से देश में ऐसा पहला स्कूल 30 अक्तूबर को राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा में खोला जा रहा है. तीन दिन पहले अपने गृह राज्य सिक्किम में भी भूटिया ने उभरते फुटबॉलरों के लिए कई योजनाओं का खुलासा किया था.

Indischer Fusballspieler Bhaichung Bhutia

पुर्तगाल के मशहूर कोच कार्लोस क्विरोज इस स्कूल में आने वाले छात्रों के प्रशिक्षण के तकनीकी पहलुओं का ध्यान रखेंगे. वे दो कोच यहां भेजेंगे जो पूरे साल इन छात्रों को फुटबॉल की बारीकियां सिखाएंगे.

बाइचुंग कहते हैं कि यह स्कूल मेरा सपना था. नोएडा के बाद बैंगलोर और मुंबई समेत कुछ और शहरों में भी ऐसे स्कूल खोलने की उनकी योजना है. स्कूल का जिक्र करते हुए वह कहते हैं, "इसमें तीस फीसदी सीटें गरीब बच्चों के लिए आरक्षित होंगी. उनसे कोई पैसा नहीं लिया जाएगा. बाकी सीटों पर दाखिला लेने वालों को फीस देनी होगी. यह स्कूल बच्चों को फुटबॉल के प्रति आकर्षित करने में एक अहम भूमिका निभाएगा."

इस स्कूली शिक्षा के बाद चुनिंदा बच्चों की प्रतिभा को निखारने के लिए उनको बाइचुंग की प्रस्तावित फुटबॉल अकादमी में भेजा जाएगा. बाइचुंग अपने मित्र और फिल्म अभिनेता जॉन अब्राहम के साथ मिल कर सिक्किम में इस अकादमी की स्थापना कर रहे हैं. सिक्किम के अलावा कोलकाता में भी ऐसी ही एक अकादमी की योजना है. राज्य सरकार ने इसके लिए उनको जमीन देने पर सहमति दे दी है. वह कहते हैं कि इस अकादमी का काम अगले साल जून में शुरू हो जाने की उम्मीद है.

अपने संन्यास का जिक्र करते हुए बाइचुंग कहते हैं, "अभी दो-तीन साल तक खेलना चाहता हूं. लेकिन हो सकता है अगले साल एशिया कप के बाद ही राष्ट्रीय टीम से संन्यास ले लूं. यह सब फिटनेस पर निर्भर है."

बाइचुंग कहते हैं कि करियर के अंतिम दौर में पहुंच कर उन्होंने इस खेल और नई प्रतिभाओं को बढ़ावा देने की कई योजनाएं बनाई हैं. उनमें से पहली योजना फुटबॉल स्कूल खोलने की है.

रिपोर्टः कोलकाता से प्रभाकर मणि तिवारी

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links