1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

फिल्मों में आने से पहले परफेक्ट होना चाहती हैं नर्मदा

गोविंदा की बेटी नर्मदा फिल्मों में एक्टिंग की दुनिया में कदम रखने से पहले पूरी तैयारी कर लेना चाहती हैं. 2007 के आईफा अवॉर्ड्स में सलमान के साथ नजर आने के बाद इस बात के कयास लगने लगे कि बेटी बाप के कदमों पर चलेगी.

default

गोविंदा की बेटी फिल्मों में कदम रखने से पहले तैयारियों में कोई कसर बाकी नहीं रखना चाहतीं. 21 वसंत देख चुकीं नर्मदा ने कहा, "इंडस्ट्री में घुसने से पहले मैं हर काम में परफेक्ट होना चाहती हूं. मैं बिना तैयारी के जल्दबाजी में यहां नहीं आना चाहती, मैं नहीं चाहती कि मेरे परिवार और दर्शकों को निराशा हो."

Indien Sonam Kapoor

स्टार बेटियों पर उम्मीदों का बोझ

नर्मदा ने इस बात से भी इनकार किया कि वो तीन साल पहले ही फिल्मों में आना चाहती थीं. नर्मदा का कहना है," उस वक्त मैं सिर्फ 18 साल की थी और किशोर नामित कपूर के स्कूल से एक्टिंग का कोर्स कर रही थी उसके बाद मैं लंदन फिल्म इंस्टीट्यूट में पढाई करने गई. गोविंदा की सलमान खान से नर्मदा के फिल्मी करियर पर हुई नाराजगी की खबरों को उन्होंने कोरा बकवास बताया. नर्मदा ने कहा,"मैं तीन साल पहले सलमान खान से जरूर मिली थी लेकिन तब हमारे बीच फिल्मों में काम के बारे में कोई बात नहीं हुई क्योंकि तब ये बहुत जल्दी होता."

बहरहाल अब नर्मदा की तैयारियां पूरी होने वाली हैं और बहुत जल्दी ही ये चेहरा फिल्मी पर्दे पर नजर आएगा. नर्मदा मानती हैं कि एक स्टार की बेटी होने के बहुत सारे नुकसान भी हैं. नर्मदा कहती हैं, "स्टार का बेटा या बेटी होने के कारण शुरूआत से ही कंधो पर उम्मीदों का बोझ आ जाता है, लोग हमारे मां-बाप के काम से हमारी तुलना करते हैं." वैसे नर्मदा ये भी मानती हैं कि फिल्मी बैकग्राउंड होने के कारण फिल्मों के ऑफर बिना ज्यादा सघर्ष किए ही मिल जाते हैं.

लंबे समय तक गोविंदा की अदाकारी ने लोगों का दिल बहलाया और उन्हें एक अलग किस्म की कॉमेडी को भारतीय सिनेमा में शामिल कराने का श्रेय भी दिया जाता है. खास बात ये भी रही कि गोविंदा की फिल्मों में हिरोइनों को उनकी स्टाइल में एक्टिंग करनी पड़ी. अब उनकी बेटी की बारी है. क्या वो भी चीची की राह पर चलकर अपनी अलग स्टाइल बनाएंगी...जवाब के लिए करिए बस थोड़ा सा इंतजार.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links