1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फिलीपीनी कट्टरपंथी समूह की आईएस से वफादारी

फिलीपींस के मुस्लिम कट्टरपंथी समूह बीआईएफएफ ने यूट्यूब पर वीडियो के जरिए सीरिया और इराक के जिहादी संगठन इस्लामिक स्टेट के प्रति अपना समर्थन जताया है. जरूरत पड़ने पर लड़ाके भेजने का वादा भी किया.

पिछले दिनों दक्षिणी फिलीपींस के कट्टरपंथी समूह बांग्सामोरो इस्लामिक फ्रीडम फाइटर्स बीआईएफएफ और अबू सैयाफ ने यूट्यूब पर वीडियो अपलोड करके इस्लामिक स्टेट के प्रति अपना समर्थन जाहिर किया. बीआईएफएफ के प्रवक्ता अबू मिस्त्री मामा के मुताबिक, "इस्लामिक स्टेट और अबू बकर अल बगदादी के साथ हमारा गठबंधन है." समाचार एजेंसी एएफपी से फोन पर बात में मिस्त्री ने पुष्टि की कि यूट्यूब पर अपलोड किया गया वीडियो उन्हीं के समूह का था.

2008 में बीआईएफएफ समूह फिलीपींस के मुस्लिम कट्टरपंथी संगठन मोरो इस्लामिक लिबरेशन फ्रंट एमआईएलएफ से एलग होकर बना था. एमआईएलएफ ने बाद में पिछले साल मार्च में सरकार के साथ शांति समझौता कर लिया. उल्लेखनीय है कि बीआईएफएफ में कुछ सौ लड़ाके हैं और यह शांति वार्ता से इनकार करता आया है.

संगठन का मकसद है, दक्षिणी फिलीपींस में इस्लामी राज्य की स्थापना करना. अबू मिस्त्री ने कहा कि उनके संगठन ने फिलीपींस से अपने लड़ाके इस्लामिक स्टेट की मदद के लिए अब तक नहीं भेजे हैं, लेकिन जरूरत पड़ने पर वे पीछे नहीं हटेंगे. दक्षिणी फिलीपींस के सैन्य विभाग के प्रवक्ता कर्नल डिक्सन हर्मोसो ने बताया कि इस बात के कोई प्रमाण अब तक नहीं हैं कि फिलीपींस से लड़ाके इस्लामिक स्टेट की मदद करने सीरिया या इराक जा रहे हों.

हर्मोसो ने कहा कि बीआईएफएफ एक आतंकवादी संगठन है. उनके मुताबिक अपनी गतिविधियों के लिए पैसा हासिल करने के लिए वह जोर जबरदस्ती और गैर कानूनी तरीके अपनाता है. फिलीपींस के सैन्य विभाग के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल रामन जगाला ने कहा कि यह वीडियो बेकार का प्रचार करने का तरीका है, इससे बाआईएफएफ को कोई फायदा नहीं होने वाला.

एसएफ/एएम (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री