1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

फिलीपींस में ट्विटर पर हदें लांघता वियतनाम विरोध

आज के कंप्यूटर युग में सोशल नेटवर्किंग साइट्स अपने विचारों को व्यक्त करने का खुला मंच है. लेकिन इन पर कुछ लोग जज्बाती होकर मर्यादा की हदें लांघ जाते हैं. वियतनाम को लेकर ऐसा ही कुछ हो रहा है फिलीपींस में.

default

फिलीपींस के कुछ आला अधिकारी ट्विटर पर वियतनाम का मजाक उड़ा कर उसके खिलाफ अपना गुस्सा उगल रहे हैं. इसकी हद पार होते देख फिलीपींस सरकार को आगे आकर इसके लिए दिशानिर्देश तक बनाने पड़े.

फिलीपींस के राष्ट्रपति बेनिंगो एक्विनो के स्पीच राईटर सहित तमाम आला अधिकारियों ने वियतनाम का मजाक बनाने के लिए उसे बुरी वाइन और वहां के लोगों को बदसूरत तक कह डाला. इस मुहिम में राष्ट्रपति कार्यालय तक के अधिकारियों के शामिल होने के बाद सरकार ने इस पर रोक लगाने के लिए मंगलवार को दिशानिर्देश जारी कर दिए.

इनके तहत एक्जीक्यूटिव स्तर के अधिकारियों को सोशल नेटवर्किंग साइट्स का इस्तेमाल करने से फिलहाल रोक दिया गया है. हाल ही में सहायक कैबिनेट सचिव मारिया कारमेन मिसलांग ने वियतनाम यात्रा के बाद वहां के लोगों, वाइन और तंग गलियों का जमकर मजाक बनाया. उन्होंने लिखा कि वियतनाम के मर्द हैंडसम नहीं है, वियतनामी वाइन खराब होती है और वहां की सड़कें गलियां मोटरसाइकिलों से खचाखच भरी रहती हैं.

हालांकि मीडिया के जरिए इस बात का खुलासा होने पर मिसलांग ने इन टिप्पणियों को हटा लिया और माफी भी मांग ली है. राष्ट्रपति की प्रवक्ता अबीगेल वाल्टे ने बताया कि इस तरह की गतिविधियों को रोकने के मकसद से सरकारी कर्मचारियों के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट्स का इस्तेमाल करने के तौर तरीके तय कर दिए गए हैं.

ये सभी सरकारी विभागों, एजेंसियों और ब्यूरो के कर्मचारियों पर लागू होंगे. महज चार महीने पुरानी एक्विनो सरकार इस तरह के मामले में कोई जोखिम लेने को तैयार नहीं है जिससे सरकार और देश की फजीहत हो.

वाल्टे ने बताया कि दिशानिर्देशों में उन सभी गतिविधियों को सूचीबद्ध किया गया है कि सोशल नेटवर्किंग साइट्स का इस्तेमाल करते समय क्या करना है और क्या नहीं करना है. एक्विनो खुद भी सोशल मीडिया के महारथी हैं और हाल ही में उन्होंने भ्रष्टाचार और कर चोरी के खिलाफ साइबर स्पेस के जरिए ही अपनी मुहिम चलाई.

रिपोर्ट: एएफपी/निर्मल

संपादन: महेश झा

DW.COM

WWW-Links