1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

फिलीपींस पहुंचे जस्टिन बीबर

युवाओं के दिल पर राज करने वाले जस्टिन बीबर फिलीपींस पहुंचे, घूमने फिरने के लिए नहीं, बल्कि तूफान पीड़ितों की मदद के लिए. बच्चों के लिए गाने गा कर, उनके साथ बास्केट बॉल खेल कर और तस्वीरें खिंचा कर वह पैसा जमा कर रहे हैं.

अपने गानों से मशहूर अमेरिकी पॉप स्टार जस्टिन बीबर ने फिलीपींस में तूफान पीड़ितों की मदद के लिए ताकलोबान शहर में शो किया. इस कार्यक्रम का आयोजन शहर के एक स्कूल की उस इमारत में हुआ जो तूफान से काफी क्षतिग्रस्त हो चुकी है. बीबर को सुनने और उनसे मिलने के लिए स्कूल परिसर में सैकड़ों बच्चे जमा हुए.

बीबर की फिलीपींस यात्रा पहले से तय नहीं थी. यूनिसेफ की प्रवक्ता केट डोनोवान ने बताया कि बीबर ने बच्चों के लिए क्रिसमस के गाने गाए. इसके अलावा उन्होंने ताकलोबान में बच्चों के साथ बास्केट बॉल भी खेला और तस्वीरें खिंचाईं.

यूनिसेफ की आपदा संयोजक एंजेला कीरने ने कहा, "यूनिसेफ को इस बात की बहुत खुशी है कि बीबर ताकलोबान आना चाहते थे और वह उस स्कूल पहुंचे जो तूफान में तबाह हो चुका है. जस्टिन के यहां आने से सैकड़ों बच्चों के चेहरों पर मुस्कुराहट, उम्मीद और खुशी आई है."

वेबसाइट पर संदेश

फिलीपींस पहुंचने से पहले बीबर ने फंड जमा करने वाली एक वेबसाइट प्राइजीओ डॉट कॉम पर एक संदेश लिख कर अपने लाखों चाहने वालों से फिलीपींस पीड़ितों की मदद की मांग की. वेबसाइट के अनुसार अब तक लोगों की तरफ से छह लाख डॉलर से ज्यादा मदद आ चुकी है.

कीरनी ने बताया कि इवेंट से जमा होने वाली राशि तूफान पीड़ित बच्चों की मदद के लिए इस्तेमाल होगी. इससे उनके इलाज, खाने पीने और शिक्षा संबंधी मामलों में मदद की जाएगी.

8 नवंबर को आए भयानक हैयान तूफान में फिलीपींस को भारी नुकसान हुआ. तूफान में हजारों घर तबाह हो गए और करीब 6,000 लोग मारे गए. अभी भी 1,700 लोग लापता हैं, जबकि लाखों बेघर हो चुके हैं.

बीबर ने अपने संदेश में यह भी लिखा कि मदद करने वालों में से किसी एक को अगले साल उनसे मिलने का मौका भी मिल सकता है. फिलीपींस में तूफान से तबाह हुए इलाकों को दोबारा बसाने के लिए कई अन्य अंतरराष्ट्रीय हस्तियों ने भी लोगों से मदद की मांग की है. दो हफ्ते पहले ग्रैमी पुरस्कार जीत चुकीं अमेरिकी गायिका अलीसिया कीस भी मनीला में पीड़ितों से मिलीं.

एसएफ/आईबी (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

WWW-Links