1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फिलीपींस: तलाश में सोशल मीडिया की मदद

फिलीपींस में भारी तूफान में बिछड़े रिश्तेदारों को लोग इंटरनेट के जरिए भी ढूंढ रहे हैं. 10,000 के करीब मौतों और हजारों की गुमशुदगी के बीच तूफान में बचे लोगों को ढूंढने की कोशिश कई वेबसाइटों के जरिए जारी है.

फिलीपींस में आए हैयान तूफान में बेघर और लापता हुए लोगों की तादाद काफी ज्यादा है. कई लोग यह भी नहीं जानते कि उनके परिवार वाले या करीबी अब जिंदा भी हैं या नहीं. टेलीफोन के नेटवर्क भी ढंग से काम नहीं कर रहे हैं. जिन्हें लोग तलाश रहे हैं अगर वे जिंदा भी हैं तो उन्हें ढूंढा कहां जाए, यह बड़ी चुनौती बनी हुई है.

इंटरनेट पर खोज

फिलीपींस में बीते दिनों आए हैयान तूफान में गुम हुए लोगों की तलाश के लिए गूगल ने एक वेबसाइट 'पर्सन फाइंडर' शुरू की है. यहां खोए हुए लोगों के बारे में जानकारी रजिस्टर की जा सकती है. जिस किसी को भी इनके बारे में जानकारी मिलती है, वह भी यहां खबर कर सकता है. इस वेबसाइट पर अब तक 50,000 से ज्यादा लोग रजिस्टर हो चुके है.

वेबसाइट पर जानकारी के लिए दो बॉक्स हैं. अगर किसी को किसी खोए हुए इंसान को ढूंढने के लिए जानकारी डालनी है तो पहला बॉक्स और अगर किसी के पास किसी के बारे में कोई जानकारी है तो दूसरा बॉक्स.

ट्विटर पर भी

ट्विटर पर भी लोग अपने परिजनों को तलाशने के लिए उनकी तस्वीरें और संबंधित अन्य जानकारी डालकर उनकी खबर पाने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसे सारे ट्वीट एक जगह इकट्ठा करने के लिए स्विट्जरलैंड के पैट्रिक मीयर ने एक और वेबसाइट शुरू की है जिसका नाम है 'माइक्रोमैपर्स'. इस वेबसाइट पर लोग संबंधित जानकारी वाले ट्वीट्स के जरिए लोगों को ढूंढ रहे हैं. ट्वीट कई श्रेणियों में बंटे हुए हैं. मदद, नुकसान के बारे में या विस्थापन संबंधित ट्वीट वेबसाइट पर अलग अलग वर्ग में हैं.

इसके अलावा तूफान संबंधित ट्वीट्स के लिए @Typhoonhaiyan को ट्विटर पर मुख्य अकाउंट के रूप में माना जा रहा है. यहां पर तूफान पीड़ितों के लिए मदद से जुड़े ट्वीट्स भी भेजे जा सकते हैं.

कई सॉफ्टवेयर कंपनियां जैसे बैकस्पेस न्यूज, एशिया सेंट्रिया और न्यूजगॉन, ट्विटर को हैशटैग्स के आंकड़े दे रही हैं जिनके जरिए फिलीपींस से संबंधित सारी जानकारी एक जगह इकट्ठी की जा सके. जैसे कि #RescuePH का इस्तेमाल सिर्फ उन लोगों के संबंध में हो रहा है जिन्हें किसी जगह बिना किसी देरी के मदद चाहिए.

गूगल ने फिलीपींस सरकार के साथ मिलकर एक 'क्राइसिस मैप' भी बनाया है. इस मैप में आपातकालीन सहायता गृह और अस्पतालों जैसी जगहों को दर्शाया गया है.

ऑनलाइन चंदा

दुनिया की कई बड़ी संस्थाएं फिलीपींस में पीड़ितों की मदद के लिए लोगों से ऑनलाइन चंदा जमा कर रही हैं. जर्मनी की रेड क्रॉस सोसाइटी अपने फेसबुक पेज पर लोगों से चंदा मांग रही है. उन्हें उम्मीद है कि इसकी मदद से वैसी ही मदद इकट्ठी होगी जैसी कि सूनामी के समय 2004 में हुई थी. उस समय सिर्फ जर्मनी से ही करीब 70 करोड़ यूरो की मदद जमा हुई थी. आपदा की इस स्थिति में इंटरनेट पर सोशल नेटवर्किंग साइटें मदद का अहम जरिया साबित हो रही हैं.

रिपोर्ट: मार्कुस लुइटिके/ एसएफ

संपादन: आभा मोंढे

DW.COM