1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फिर ओलंपिक में आ सकते हैं फेल्प्स

अमेरिका के मशहूर तैराक माइकल फेल्प्स एक बार फिर राष्ट्रीय टीम में शामिल होकर ओलंपिक में आना चाहते हैं. उन्होंने 18 ओलंपिक स्वर्ण जीते हैं और पहले ओलंपिक को अलविदा कह चुके हैं.

इस सिलसिले में पहली बाधा पार करते हुए उन्होंने पैन पैसिफिक चैंपियनशिप में जगह बना ली है. वह 21-24 अगस्त के बीच ऑस्ट्रेलिया में होने वाली प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगे. इसके बाद वह अपने आप अगले साल रूस के कजान शहर में होने वाले वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई कर जाएंगे.

साल 2012 के लंदन ओलंपिक में सोने पर सोना जीतने के बाद फेल्प्स ने अंतरराष्ट्रीय तैराकी से संन्यास ले लिया था. लेकिन इस साल मई में उन्होंने अपना संन्यास तोड़ दिया. अब वह कोशिश कर रहे हैं कि क्या 2016 के रियो ओलंपिक में हिस्सा ले सकते हैं या नहीं. उनके नाम ओलंपिक के 18 स्वर्ण पदक सहित कुल 22 मेडल हैं.

माइकल फेल्प्स को दुनिया के सबसे सफल तैराक के तौर पर जाना जाता है. हालांकि उनकी शख्सियत को लेकर कई बार सवाल भी उठे. लेकिन विवादों को दरकिनार करते हुए उन्होंने बार बार कामयाबी हासिल की है. इस बार उन्होंने 100 मीटर बटरफ्लाई और 200 मीटर इंडिविजुअल मेडल में क्वालीफाई किया है.

उनके साथ अमेरिका की युवा तैराक केटी लेडेकी और मिसी फ्रैंकलिन भी अमेरिकी टीम में चुन ली गई हैं. लेकिन फेल्प्स के साथी एलिसन श्मिट, नटाली कफलिन और केटी हॉफ टीम में नहीं चुनी जा सकीं. इस टीम में कुल 60 तैराकों को चुना गया है.

लेडेकी से टीम को बहुत उम्मीदें हैं, जिन्होंने 200 मीटर, 400 मीटर और 800 मीटर फ्रीस्टाइल में क्वालीफाई किया. उन्होंने चयन प्रक्रिया के क्रम में 400 मीटर में वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बना दिया. उन्होंने इससे पहले 800 मीटर और 1500 मीटर फ्रीस्टाइल के रिकॉर्ड भी जून में ही तोड़े हैं.

लंदन ओलंपिक में चार स्वर्ण जीतने वाली फ्रैंकलिन भी चार अलग अलग प्रतियोगिताओं के लिए क्वालीफाई कर गई हैं, जिनमें 100 और 200 मीटर फ्रीस्टाइल और 100 और 200 मीटर बैकस्ट्रोक शामिल है.

एजेए/एएम (रॉयटर्स)

DW.COM