1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

फिक्सिंग में फंसेंगे और

भारतीय गेंदबाज श्रीसंत सहित तीन खिलाड़ियों की गिरफ्तारी के बाद स्पॉट फिक्सिंग का मामला गहराता जा रहा है. पुलिस को इस बात का शक है कि दूसरी टीमें और खिलाड़ी भी इसमें फंसे हैं. एक खिलाड़ी ने फिक्सिंग की बात मान ली है.

दिल्ली पुलिस ने जिन लोगों को गिरफ्तार किया है, उनमें सटोरियों के साथ एक खिलाड़ी भी शामिल है. भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने गुजरात के अमित सिंह को निलंबित कर दिया है. शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा गया, "गुजरात क्रिकेट से रजिस्टर खिलाड़ी अमित सिंह को भी निलंबित कर दिया गया है. उन्हें दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उनके खिलाफ जांच की जा रही है." पुलिस ने जिन 11 सटोरियों को पकड़ा है, उनमें सिंह भी शामिल थे.

इस बीच भारतीय मीडिया ने रिपोर्टें दी हैं कि पुलिस की जांच के दौरान पकड़े गए खिलाड़ियों का हौसला जवाब दे रहा है और वे टूट रहे हैं. मीडिया ने राजस्थान रॉ़यल्स के अंकित चव्हाण के हवाले से रिपोर्ट दी है कि उन्होंने फिक्सिंग में हाथ होने की बात मान ली है और इस बात के संकेत दिए हैं कि दूसरे खिलाड़ी भी इसमें शामिल हो सकते हैं. इसके बाद पुलिस के कान खड़े हो गए हैं. हालांकि श्रीसंत और अजीत चांडिला ने स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों से इनकार किया है.

भारतीय मीडिया ने दिल्ली और मुंबई के पुलिस अधिकारियों के हवाले से कहा है कि स्पॉट फिक्सिंग के मामले में कुछ और सटोरिये और खिलाड़ियों की गिरफ्तारियां हो सकती हैं. वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट किया, "मुंबई पुलिस कमिश्नर (अपराध) हिमांशु रॉय ने मुझे कहा है कि कुछ और खिलाड़ी इसमें शामिल हो सकते हैं. और गिरफ्तारियों की संभावना है."

Der indische Cricketspieler S. Srisanth

दिल्ली पुलिस ने बुधवार रात को तीनों खिलाड़ियों को मुंबई से गिरफ्तार किया. उन पर आरोप है कि आईपीएल 6 में उन्होंने मोहाली और मुंबई के खिलाफ मैचों में पैसे लेकर पहले से तय हिसाब से गेंदबाजी की. दिल्ली पुलिस का दावा है कि उसके पास पहले से जानकारी थी लेकिन उसने पूरे सबूत जुटाने के बाद ही गिरफ्तारी की. दिल्ली पुलिस करीब 13 साल पहले भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में मैच फिक्सिंग का राजफाश कर चुकी है. भारतीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने दिल्ली पुलिस की कामयाबी पर बधाई दी है.

इस बीच, भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने इस मुद्दे के सामने आने के बाद इमरजेंसी मीटिंग बुलाई है. रविवार को बोर्ड की बैठक होने वाली है. बोर्ड ने एक बयान जारी कर कहा, "बीसीसीआई अध्यक्ष ने 19 मई, रविवार को पार्क शेरेटन होटल, चेन्नई में सुबह 11 बजे एक आपात बैठक बुलाई है. कार्यसमिति की बैठक में दूसरे मुद्दों के अलावा स्पॉट फिक्सिंग से पैदा हुई परिस्थितियों पर भी चर्चा की जाएगी."

बोर्ड का कहना है कि सिर्फ एक घटना के आधार पर आईपीएल को बदनाम नहीं किया जाना चाहिए. बोर्ड के संयुक्त सचिव अनुराग ठाकुर ने धर्मशाला में कहा कि मौजूदा दौर में क्रिकेटरों को करोड़ों रुपये मिलते हैं, फिर भी वे ऐसा कर रहे हैं, "यहां तक कि पूर्व क्रिकेटरों को भी करोड़ों रुपये मिल रहे हैं. वे इससे कमा रहे हैं. अगर उन्हें लगता है कि यह साफ पैसा नहीं है, तो उन्हें यह नहीं लेना चाहिए."

भारत में लगातार दूसरे साल आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग का मामला सामने आया है. पिछले साल पांच खिलाड़ी इसी आरोप में निलंबित हो चुके हैं. हालांकि उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया था. यह पहला मामला है, जब क्रिकेटरों को भारत में स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

एजेए/एएम (पीटीआई, एपी, एएफपी)

DW.COM