1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फार्मा कंपनियों के केमिकल से 23 लाख मछलियां मरीं

हैदराबाद के इंडस्ट्रियल इलाके में फार्मा कंपनियों के तालाब में केमिकल डालने के कारण करीब 23 लाख मछलियों की मौत हो गयी है.

भारत में हैदराबाद के संगारेड्डी जिले के पतनचेरू के पास एक झील में फार्मा कंपनियों के केमिकल छोड़े जाने से करीब 23 लाख मछलियां मारी गयी हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार पुलिस ने फार्मा कंपनियां माइलन, हितेरो फार्मा, ऑरबिंदो, एसएमएस फार्मा, श्रीराम और वैंटेक के खिलाफ धारा 277 और 278 के तहत एफआईआर दर्ज की है.

दरअसल काजीपल्ली इंडस्ट्रियल इलाके में करीब 30 प्रमुख फार्मा कंपनियां हैं. इन कंपनियों के केमिकल अपशिष्ट को सीधे झील में छोड़ दिया गया था. 266 एकड़ में फैले इस तालाब की 70 से 80 प्रतिशत मछलियां केमिकल की वजह से मारी गयी हैं.

जलवायु परिवर्तन और लगातार बढ़ते प्रदूषण की वजह से बड़ी संख्या में मछलियों के बारे जाने की घटनायें बार-बार सामने आती हैं. पिछले साल तमिलनामडु के तट पर दर्जनों मरी हुई व्हेल मिली थीं. उसी दौरान भारत से हजारों किलोमीटर दूर जर्मनी और हॉलैंड के तटों पर भी 12 व्हेल मछलियां मृत पाई गईं थीं.

DW.COM

संबंधित सामग्री