1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फलीस्तीनी राजदूत मारे गए

चेक गणराज्य में तैनात फलीस्तीनी प्रशासन के राजदूत जमाल अल जमाल एक धमाके में मारे गए. यह धमाका प्राग में हुआ और मेजबान देश फिलहाल इसे हमला मानने की पुष्टि नहीं कर रहा है.

प्राग में पुलिस की एक प्रवक्ता ने बताया कि अल जमाल अपने घर में थे, जिस वक्त यह धमाका हुआ. प्रवक्ता आंद्रेया जूलोवा ने कहा, "हमें खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि यह सूचना सही है." पुलिस ने आतंकवादी हमले की संभावना से इंकार किया है.

इस बीच फलीस्तीनी प्रशासन के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि जैसे ही घर पर अल जमाल ने अपनी अलमारी खोली, विस्फोट हो गया. उन्हें फौरन सेना के अस्पताल में ले जाया गया. पुलिस के मुताबिक उनका परिवार भी धमाके के वक्त घर पर ही था.

Jamal al-Jamal, palästinensischer Botschafter in Prag NICHT FÜR OVERLAY GEEIGNET

मारे गए जमाल अल जमाल

फलीस्तीन के वाफा समाचार एजेंसी ने बताया कि उनके यहां से एक प्रतिनिधिमंडल प्राग जा रहा है, जो इस मामले की जांच में मदद करेगा. शहर के सुखडोल इलाके में धमाके के बाद सुरक्षाकर्मियों को तैनात कर दिया गया और इलाके में खोजी कुत्ते भी लगा दिए गए. आसमान से हेलिकॉप्टर के जरिए निगरानी की जाने लगी.

अल जमाल ने अक्टूबर में ही चेक गणराज्य में अपना पद संभाला था और सिर्फ कुछ दिन पहले ही इस अपार्टमेंट में आए थे. समाचार एजेंसी नोविंकी डॉट सीजेड ने पुलिस जांच के हवाले से रिपोर्ट दी है कि खतरनाक विस्फोटक को लापरवाही से संभालने की वजह से यह हादसा हुआ हो सकता है, "आपात सेवा ने 56 साल के व्यक्ति का इलाज किया, जिन्हें गंभीर चोटों के बाद प्राग के सैनिक अस्पताल लाया गया था." रिपोर्टों के मुताबिक 52 साल की एक और महिला को इलाज के लिए दूसरे अस्पताल में दाखिल किया गया.

एजेए/एमजे (डीपीए, एएफपी)