फर्जी मुठभेड़ में कोर्ट मार्शल | दुनिया | DW | 25.12.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फर्जी मुठभेड़ में कोर्ट मार्शल

तीन युवकों को सीमा पर ले जाकर गोली मारने और फिर घटना को आतंकी मुठभेड़ कहने वाले भारतीय सेना के दो अधिकारियों और चार जवानों का कोर्ट मार्शल होगा. कश्मीर में इस वारदात के बाद हुए हिंसक प्रदर्शनों में 123 लोग मारे गए थे.

भारतीय सेना ने मचिल फर्जी मुठभेड़ मामले में बुधवार को दो अधिकारियों समेत छह सैनिकों के कोर्ट मार्शल का आदेश दिया. आरोपियों में कर्नल डीके पठानिया, चार राजपूताना राइफल्स के कमांडिंग अफसर मेजर उपिंदर और चार जवान हैं.

30 अप्रैल 2010 को भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर राज्य में सेना ने नियंत्रण रेखा के पास आतंकवादियों से मुठभेड़ होने का दावा किया. सेना ने कहा कि मचिल सेक्टर के पास हुई मुठभेड़ में तीन पाकिस्तानी आतंकवादी मारे गए हैं. बाद में मृतकों की असली पहचान सामने आई, वे सभी भारतीय नागरिक निकले. मृतक मोहम्मद शफी, शहजाद अहमद और रियाज अहमद बारामुला जिले के नदीहाल इलाके के निवासी थे.

आरोप हैं कि स्थानीय टेरिटोरियल आर्मी के कुछ जवानों ने तीनों को लालच देकर सोपोर से उठाया. फिर उन्हें नियंत्रण रेखा पर ले जाया गया और उनकी हत्या कर दी.

Indien Protest Kind Feuer 2010

फर्जी मुठभेड़ के बाद घाटी में हुए प्रदर्शन

मृतकों के रिश्तेदारों की शिकायत पर पुलिस ने सेना के एक जवान और दो लोगों को गिरफ्तार किया. मुठभेड़ फर्जी होने का मामला सामने आते ही कश्मीर घाटी में तनाव फैल गया. जगह जगह हिंसक प्रदर्शन होने लगे. इस दौरान 123 लोग मारे गए. जम्मू कश्मीर पुलिस इस मामले में जुलाई 2010 में चार्जशीट पेश कर चुकी है.

हिंसक प्रदर्शनों के बाद राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह और रक्षा मंत्री एके एंटनी ने मामले की विस्तृत जांच का भरोसा दिया था. भारतीय सेना की उत्तरी कमांड के प्रवक्ता के मुताबिक अनुशासनात्मक कार्रवाई के दौरान जो बातें सामने आईं उनके आधार पर अब मामला आगे बढ़ाया जा रहा है. प्रवक्ता ने कहा, "बेहद लंबी और गहन जांच में राज्य की पुलिस और न्यायिक विभाग के सहयोग से चश्मदीदों से बात की गई, सबूत दर्ज किए गए और आरोपियों के खिलाफ अभियोग तैयार किया गया है. सेना ने माना है कि प्राथमिक जांच में आरोपियों के खिलाफ ठोस सबूत मिले हैं, इसी वजह से कोर्ट मार्शल की कार्रवाई शुरू की जा रही है.

ओएसजे/एमजे (पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री