1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

प्रेम संबंधों के लिए बुरा है ट्विटर

सोशल मीडिया वेबसाइट्स का इस्तेमाल दुनिया भर में करोड़ों लोग एक दूसरे से जुड़ने के लिए कर रहे हैं. शोधकर्ताओं का कहना है कि ट्विटर का अत्यधिक इस्तेमाल शादीशुदा जिंदगी और प्रेम संबंधों को नुकसान पहुंचा सकता है.

यह अध्ययन फेसबुक पर इसी तरह के प्रभावों को लेकर पहले हुए शोध को आगे बढ़ाता है. उस अध्ययन में ये सवाल उठाए गए थे कि क्या सोशल नेटवर्क का सामान्य रूप से इस्तेमाल रिश्तों पर बुरा असर करता है. नया शोध साइबर मनोविज्ञान, व्यवहार और सोशल नेटवर्किंग पत्रिका में छपा है. शोध में पाया गया कि, "ट्विटर का एक्टिव इस्तेमाल प्रेम संबंधों में ट्विटर से जुड़े विवादों का कारण बनता है, जिस वजह से बेवफाई, संबंध का खत्म होना और तलाक तक मामले को बढ़ाता है."

शोध के लेखक रसल क्लेटन ने शोध के नतीजों से निष्कर्ष निकाला कि सोशल नेटवर्क का इस्तेमाल निजी रिश्तों के काले पक्ष को और सबूत प्रदान करता है. पिछले साल इसी पत्रिका में क्लेटन का शोध छपा था जिसमें पाया गया था कि फेसबुक का अत्यधिक इस्तेमाल संबंधों में नकारात्मक नतीजों से जुड़ा है.

पत्रिका की मुख्य संपादक ब्रेंडा वीडरहोल्ड का कहना है कि इन निष्कर्ष से इस ओर और ध्यान देने की जरूरत है कि सोशल नेटवर्क के इस्तेमाल पर शोध की जरूरत है. एक बयान में उन्होंने कहा, "क्योंकि सोशल मीडिया पर ज्यादातर शोध शुरुआती दौर में है, हमें नहीं पता कि क्या इंस्टाग्राम जैसे अन्य मीडिया का रिश्तों पर नकारात्मक असर होता है."

इस सर्वे में शोध के लिए 581 वयस्क ट्विटर यूजरों को शामिल किया गया है. उनसे पूछा गया कि वह कितनी बार सोशल नेटवर्क का इस्तेमाल करते हैं और यह भी पूछा गया कि किस तरह का झगड़ा पूर्व और वर्तमान पार्टनर के बीच ट्विटर के इस्तेमाल को लेकर हुआ. क्लेटन ने पाया कि शोध में शामिल अधिकतर शख्स जितनी बार ट्विटर पर एक्टिव होगा उतनी ही संभावना है कि उसका विवाद अपने पार्टनर के साथ ट्विटर संबंधित मुद्दों पर हो.

इस शोध के नतीजे फेसबुक पर क्लेटन के शोध के नतीजे को आंशिक रूप से दोहराते हैं. उस शोध में फेसबुक के इस्तेमाल और संबंधों पर नकारात्मक असर का जिक्र था. क्लेटन कहते हैं, "दोनों शोध के आधार फेसबुक और ट्विटर के इस्तेमाल का प्रेम संबंधों पर हानिकारक प्रभाव हो सकता है."

एए/एमजे (एएफपी)

संबंधित सामग्री