1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

प्रिंस तुर्की मृत्युदंड पाने वाले अकेले सऊदी प्रिंस नहीं

हत्या के मामले में पिछले दिनों एक सऊदी राजकुमार को मौत की सजा दे दी गई. लेकिन पहला मौका नहीं है जब सऊदी राजघराने के किसी सदस्य को इस तरह सजा दी गई है.

Symbolbild Schwert Exekution Saudi-Arabien (picture-alliance/dpa/Abir Abdullah)

प्रतीकात्मक फाइल फोटो

सऊदी प्रिंस तुर्की बिन सऊद अल कबीर को हत्या के एक मामले में दोषी पाया गया था और पिछले दिनों शाह सलमान के आदेश पर उनकी मौत की सजा पर अमल किया गया. सऊदी अरब में शाही परिवार के सदस्यों को ऐसी सजा कम ही दी जाती है. लेकिन यह इस तरह का पहला मामला बिल्कुल नहीं है.

इससे पहले 1975 में सऊदी शाह फैसल की हत्या करने वाले उनके भतीजे प्रिंस फैसल बिन मुसैद को मौत की सजा दी गई. शाह अल फैसल की हत्या के लगभग तीन महीने बाद फैसल बिन मुसैद का सिर कलम कर मृत्युदंड दिया गया था. शाह फैसल ने 1964 से 1975 तक 11 साल तक सऊदी अरब पर शासन किया और उनके बाद शाह खालिद को सऊदी अरब की बागडोर मिली.

देखिए हज में क्या करते हैं लोग

1977 में एक सऊदी राजकुमारी मिशाएल को विवाहेत्तर संबंध रखने का दोषी करार देते हुए उन्हें गोली मारकर मौत की सजा दी गई थी. राजकुमारी ने अपने प्रेमी को छोड़ने से इनकार कर दिया और विवाहेत्तर संबंधों की बात कबूल कर ली थी. राजकुमारी के सिर में गोली मारी गई जबकि उनके प्रेमी का सिर कलम किया गया. बीबीसी और पीबीएस ने इस प्रकरण पर "डेथ ऑफ ए प्रिंसेस” नाम से एक डॉक्यूमेंट्री भी तैयार की थी, जिसके प्रसारण के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सऊदी अरब की कड़ी आलोचना हुई.

2004 में एक युवा सऊदी प्रिंस को मौत की सजा पर अमल होने ही वाला था. उसे मृत्युदंड के लिए निश्चित जगह पर भी भेज दिया गया था. लेकिन ऐन टाइम पर राजकुमार की गोली से मारे जाने वाले व्यक्ति के पिता ने प्रिंस को माफ कर दिया था.

एके/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री